कार्तिक पूर्णिमा के दिन करें ये काम, सभी परेशानियां होंगी दूर

नई दिल्लीः कार्तिक शुक्ल की पूर्णिमा इस बार 30 नवंबर को मनाई जाएगी। हिंदू पंचांग के अनुसार, इस दिन कार्तिक मास समाप्त हो रहा है। कार्तिक पूर्णिमा पर ही गुरु नानक जयंती भी मनाई जाएगी। कार्तिक पूर्णिमा के दिन नदियों में स्नान करने के परंपरा भी है। मान्यता है कि इस दिन शुभ मुहूर्त में भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा करने से सभी परेशानियां दूर हो जाती हैं। इसके साथ ही धन की कमी भी दूर होती है।
पौराणिक कथाओं के अनुसार, कार्तिक पूर्णिमा के दिन देवता दिवाली का पर्व मनाते हैं इसीलिए इसे ‘देव दिवाली’ कहा जाता है। भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नाम के तीन असुर भाइयों के वध किया था, जिसके उपलक्ष्य में यह कार्तिक पूर्णिमा का पूर्व इतना हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।
इस दिन करेंगे ये काम तो मिलेगा फल
कार्तिक पूर्णिमा पर स्नान, दीपदान, पूजा, आरती, हवन और दान का बहुत महत्व है।
इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। शुभ मुहूर्त में हमें सत्यनारायण कथा का पाठ करना चाहिए।
देव दिवाली के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए। पानी में गंगा जल मिलाकर स्नान करने के बाद सूर्यदेव का ध्यान करते हुए उन्हें जल चढ़ाना चाहिए

ॐ नमः शिवाय मंत्र का जाप करना चाहिए। शिवजी का ध्यान करते हुए मां पार्वती, कार्तिकेय, गणेशजी और नंदी की भी आराधना करनी चाहिए।
पूर्णिमा के दिन इसलिए होती है तुलसी पूजा

कार्तिक पूर्णिमा कार्तिक मास का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है। इस दिन सत्यनारायण और मां लक्ष्मी पूजा की पूजा की जाती है। पूर्णिमा तिथि 29 नवंबर को दोपहर 12:47 बजे से लग जाएगी और 30 नवंबर को दोपहर 2:59 बजे तक रहेगी। इस दिन तुलसी पूजा का भी विशेष महत्व है। दरअसल कार्तिक मास की एकादशी के दिन तुलसी का भगवान विष्णु के शालीग्राम रूप के साथ विवाह हुआ था, वहीं कहा जाता है कि पूर्णिमा तिथि के दिन तुलसी का बैकुंठ धाम में आगमन हुआ था। इसलिए कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजा का खास महत्व है। यह भी कहा जाता है कि इसी दिन तुलसी का पृथ्वी पर आगमन भी हुआ था। इस दिन श्रीहरि की पूजा में तुलसी अर्पित करना लाभदायक होता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन घरों में तुलसी के पौधे के आगे दीपक जलाना और भगवान विष्णु की पूजा करने से लक्ष्मी सदा के लिए प्रसन्न हो जाती है। कार्तिक मास आरोग्य प्रदान करने वाला, रोगविनाशक, सद्बुद्धि प्रदान करने वाला तथा मां लक्ष्मी की साधना के लिए सर्वोत्तम है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सबसे अधिक मतदाता संख्या वृद्धि में अव्वल द‌क्षिण 24 परगना

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः मतदाताओं की संख्या में वृद्धि के मामले में दक्षिण 24 परगना अव्वल है। आंकड़े यही दर्शाते हैं। चुनाव आयोग के अनुसार जिले में आगे पढ़ें »

जम्मू में 150 मीटर लंबी व 30 फीट गहरी सुरंग का बीएसएफ ने लगाया पता

नई दिल्ली : बीएसएफ को कठुआ (जम्मू-कश्मीर) के पंसार इलाके में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास 150 मीटर लंबी और 30 फीट गहरी सुरंग मिली है। आगे पढ़ें »

ऊपर