कांग्रेस और झामुमो ने की गरीबों की अनदेखी : स्मृति ईरानी

धनबाद/बोकारो : केंद्रीय मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की वरिष्ठ नेत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) पर गरीबों की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए शनिवार को कहा कि यह तो केंद्र और झारखंड की भाजपा सरकार है, जिसने गरीबों के स्वास्थ्य की चिंता की। स्मृति ईरानी ने यहां धनबाद के निरसा और बोकारो के डुमरी में भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड में कांग्रेस और झामुमो की पूर्ववर्ती सरकारों ने हमेशा गरीबों की अनदेखी की है।

आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपये तक मुफ्त स्वास्थ्य बीमा योजना की सौगात दी

केंद्रीय मंत्री  स्मृति ईरानी ने कहा कि यह तो केंद्र और झारखंड की भाजपा सरकार है जिसने गरीबों के स्वास्थ्य की चिंता की और उन्हें आयुष्मान भारत योजना के तहत पांच लाख रुपये तक मुफ्त स्वास्थ्य बीमा योजना की सौगात दी है। भाजपा की नेता ने कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी की सरकार ने महिलाओं को सम्मान दिया है। मोदी के एक गरीब परिवार से होने की वजह से वह गरीबी के दंश को समझते हैं। उन्होंने अपनी मां की पीड़ा को देखकर देश की महिलाओं को गैस सिलेंडर एवं चूल्हा दिया है। उन्होंने महिलाओं के सम्मान के लिए शौचालय बनवाएं। इतना ही नहीं इस सरकार ने लोगों पानी, मकान, बिजली और सड़क भी दिए हैं। स्मृति ईरानी ने कहा कि झारखंड की रघुवर दास सरकार ने राज्य में सड़क बनवाई है लेकिन उन सड़कों में डुमरी से तीन बार से विधायक जगनाथ महतो के क्षेत्र में मात्र 205 किलोमीटर सड़कें ही बनी हैं। उन्होंने कहा कि डुमरी एवं दिल्ली के बीच विकास कार्यों को नजदीक लाना है तो भाजपा की निश्चित रूप से विजय बनाएं। डुमरी की जनता ने 15 वर्ष वनवास की तरह झेला है। अब वोट के माध्यम से वनवास को समाप्त करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जीवन में मान सम्मान चाहिए तो भूलकर भी न करें ये काम

चाणक्य की चाणक्य नीति कहती है कि हर व्यक्ति को मान सम्मान प्राप्त नहीं होता है। जो व्यक्ति अपने सभी कार्यों को अच्छे ढंग से आगे पढ़ें »

tmc

बौखला उठे हैं भाजपा प्रवक्ता, मर्यादा की सारी सीमाएं लांघ रहे हैं

तृणमूल को बांग्लादेशी पार्टी कहा, प्रवक्ता को बंगलादेशी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : जैसे - जैसे विधानसभा चुनाव करीब आ रहा है वैसे - वैसे भाजपा में बौखलाहट आगे पढ़ें »

ऊपर