3 कश्मीरी भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या, प्रदेश अध्यक्ष बोले- ‘कायरों को चुन-चुनकर मौत के घाट उतारेंगे’

कश्मीर में अपने तीन कार्यकर्ताओं की हत्या पर भाजपा हुई आगबबूला, कहा – ‘उनकी शहादत बेकार नहीं जाएगी’

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में गुरुवार शाम को तीन बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या को लेकर अब राजनीतिक बयान बाजी तेज हो गई है। भाजपा ने भारी आक्रोश व्यक्त करते हुए पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रविंदर रैना ने कहा कि पाकिस्तान को अपने पापों की भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। उन्होंने कहा कि एक-एक को चुन-चुनकर मारा जाएगा। बता दें कि मृतक कार्यकर्ताओं की पहचान फिदा हुसैन यातू, उमर राशिद बेग और उमर रमजान हजाम के रूप में हुई है।

रैना ने कहा कि वे (मृतक) बहादुर बीजेपी कार्यकर्ता थे। उन्होंने कहा, ‘भारत माता के लिए उनकी शहादत बेकार नहीं जाएगी। कायर पाकिस्तानियों को अपने पापों की भारी कीमत चुकानी पड़ेगी। एक-एक अपराधी को मौत के घाट उतारा जाएगा।’ बताते चलें कि कार्यकर्ताओं की हत्या की जिम्मेदारी द रेजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) ने ली है।

जम्मू-कश्मीर बीजेपी ने ट्वीट में कहा, ‘यह हीन कार्य आतंकवादियों की हताशा को दर्शाता है। ईश्वर दिवंगत आत्माओं को शांति प्रदान करे और उनके परिवारों को यह दुख सहने की ताकत दे। हमारी हार्दिक संवेदनाएं उनके परिवारों के साथ हैं।’

रैना के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी घटना की कड़ी निंदा करते हुए ट्वीट किया, ‘मैं 3 युवा बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्‍या की निंदा करता हूं। वे जम्‍मू-कश्‍मीर में उत्‍कृष्‍ट कार्य करने वाले उज्ज्वल युवा थे। दुख के इस समय में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं। उनकी आत्मा को शांति मिले।’

पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला ने दुख जताते हुए ट्वीट किया, ‘दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले से भयानक खबर। मैं आतंकी हमले में 3 बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा करता हूं। अल्लाह उन्हें जन्नत में जगह दे और इस मुश्किल के समय में उनके परिवार को ताकत मिले।’

क्या है पूरी घटना

जम्‍मू-कश्मीर में भाजपा के नेता और कार्यकर्ता लगातार आतंकियों की हिट लिस्‍ट रहें हैं। गुरुवार देर शाम कुलगाम में आतंकियों ने घात लगाकर हमला करते हुए तीन बीजेपी नेताओं की गोली मारकर हत्या कर दी। आतंकियों ने बीजेपी नेताओं की कार पर उस वक्‍त हमला बोल दिया जब वे अपने घर जा जा रहे थे। हमले के बाद पूरे इलाके में सनसनी मच गई है जिसके बाद पुलिस और सेना ने पूरे इलाके को घेर कर उन आतंकियों को ढ़ूढ़ने के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया।

कौन है टीआरएफ

तहरीक-ए-मिल्लत-ए-इस्लामी को टीआरएफ से भी जाना जाता है। यह पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तयैबा का ही फ्रंटल ऑर्गनाइजेशन है। सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों के हवाले से खबर के मुताबिक, हर साल मार्च-अप्रैल के बीच इस तरह के नए संगठन सामने आते हैं जो कुछ ही महीनों में फिर गायब हो जाते हैं। यह संगठन कोई नए आतंकी संगठन नहीं होते बल्कि जो मौजूदा आतंकी संगठन हैं, उनके ही लोग अलग-अलग नाम से ग्रुप बना लेते हैं। इनका मकसद दूसरे आतंकी संगठनों के लोगों को तोड़कर अपने साथ शामिल करना होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ड्रग्स मामला : रिया के भाई शौविक को जमानत मिली

    मुंबई : मुंबई की एक अदालत ने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती को बुधवार को जमानत दे दी। शौविक को अभिनेता सुशांत सिंह आगे पढ़ें »

क्लीन स्वीप के साथ टी-20 में नंबर 1 बना इंग्लैंड

केप टाउन : विश्व के नंबर एक बल्लेबाज डेविड मलान की नाबाद 99 रन की जबरदस्त पारी की बदौलत इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका को एकतरफा आगे पढ़ें »

ऊपर