एमडीएमके प्रमुख वाइको राजद्रोह मामले में दोषी करार

चेन्नई : चेन्नई की एक अदालत ने शुक्रवार को मरलमाची द्रविड़ मुनेत्र कझगम (एमडीएमके) प्रमुख वाइको को तमिलनाडु सरकार द्वारा 2009 में दर्ज कराए गए एक मामले में दोषी ठहराया है। न्यायाधीश जे शांति ने उन्हें राजद्रोह के मामले में कसूरवार पाया है और उन्हें एक साल की साधारण कारावास की सजा सुनाई।
सजा पर एक महीने की रोक
फैसला सुनने के बाद वाइको ने कहा कि उन्होंने अदालत से कभी भी किसी प्रकार की नरमी बरते जाने की अपील नहीं की। इसके बाद वाइको की ओर से उनके वकील ने अदालत में दोषसिद्धि के खिलाफ एक याचिका दर्ज कराई है। इसके जरिए वह अब न्यायालय के आदेश के खिलाफ याचिका दायर कर सकेंगे। ऐसा होने से उनकी दोषसिद्धि और सजा पर एक महीने की रोक लग गई है।
वर्ष 2009 में दर्ज किया गया ‌था मामला
वर्ष 2009 में वाइको की किताब ‘नान कुटरम सत्तुगिरेन’(मैं आरोप लगा रहा हूं) के विमोचन के दौरान उन्होंने अपने भाषण में जिस तरह के भाषा का प्रयोग किया था उसे भारत की गरिमा को ठेस पहुंचाने वाला माना गया जिसके बाद पुलिस ने वाइको के खिलाफ आईपीसी की धारा 124 ए (राजद्रोह) में मामला दर्ज किया था। 75 वर्षीय वाइको श्रीलंका में तमिलों के कट्टर समर्थक हैं और 1978 से 1996 तक द्रमुक से राज्यसभा सदस्य रहे हैं।
राज्यसभा चुनाव के उम्मीदवार घोषित
गौरतलब है कि द्रमुक के सहयोगी दल एमडीएमके ने पार्टी महासचिव वाइको को तमिलनाडु से राज्यसभा चुनाव के लिए मंगलवार को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। मालूम हो कि तमिलनाडु में राज्यसभा की 6 सीटों के लिए 18 जुलाई को चुनाव होने हैं। वहीं इस बार द्रमुक और अन्नाद्रमुक दोनों अपने-अपने संख्या बल के ‌हिसाब से 3-3 सीटें जीत सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीरियड को लेकर अपनी लाडली को करें जागरूक, बताएं ये बातें

नई दिल्ली : किसी लड़की के जीवन में पहली बार पीरियड आना जीवन में बड़ा बदलाव होता है। पीरियड आने के बाद किसी लड़की के आगे पढ़ें »

भारतीय टीम मुझ पर निर्भर नहीं, कई खिलाड़ी मुझसे बेहतर : छेत्री

कोलकाता : भारत के लिए रिकार्ड गोल करने वाले सुनील छेत्री पर बांग्लादेश के खिलाफ मंगलवार को होने वाले विश्व कप क्वालीफायर मुकाबले में गोल आगे पढ़ें »

ऊपर