उत्तर प्रदेश में नदियां उफान पर, बाढ़ का गंभीर खतरा

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में सरयू नदी मंगलवार को खतरे के लाल निशान को पार कर गयी है वहीं बलरामपुर जिले के सितई घाट पर राप्ती नदी का जलस्तर के खतरे के निशान से ऊपर चले जाने के बाद सिंचाई विभाग ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के छह जिलों में अलर्ट जारी कर बाढ़ सुरक्षा से संबंधित सभी तैयारियां पूरी करने का निर्देश दिया है।
बस्ती जिला में आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को सरयू नदी खतरे के निशान से 35 सेमी ऊपर बह रही है। जलस्तर निरंतर बढ़ने से रिहायशी क्षेत्रों में पानी पहुंचने लगा है। केशवपुर, बाघानाला गांव, भरथापुर, कल्याणपुर, चानपुर, पड़ाव, सहजौरा खलवा, धरमूपुर, दुबौलिया, खजांचीपुरवा, सुबिका बाबू, कटरिया, बैरागल, विशुनदासपुर, पारा, चांदपुर, दिलासपुर, सहित तटवर्ती गांवों के लोग बाढ़ के भय से भयभीत हैं। वहीं आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बलरामपुर, सिद्धार्थ नगर, महाराजगंज, संत कबीर नगर, गोरखपुर और देवरिया जिले में बाढ़ से सुरक्षा का अलर्ट जारी किया गया है।
स्टीमर सुरक्षित
उत्तर प्रदेश में लखीमपुर-खीरी जिले के तिकुनियां इलाके में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में राहत सामग्री वितरण करने गया स्टीमर कौडियाला नदी के बालू में फंस गया, जिसे सोमवार देर रात निकाल लिया गया। स्टीमर पर स्थानीय लोगों के अलावा निघासन तहसील के नौ लेखपाल, तीन अध्यापक समेत कुल 53 लोग सवार थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

झारखंड विधानसभा चुनाव में 65 से अधिक सीटें जीतेगी भाजपा : जावड़ेकर

रांची : केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को कहा कि झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास के विकास कार्यों की बदौलत उन्हें आगे पढ़ें »

बिहार और झारखंड में ओडिशा के सांसद स्थापित करेंगे नि:शुल्क शिक्षण संस्थान

भुवनेश्वर : ओडिशा के कलिंग इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (कीस) की कामयाबी से उत्साहित उसके संस्थापक डॉ. अच्युत सामंत ने कहा है कि वह गरीबी आगे पढ़ें »

ऊपर