उत्तर प्रदेश में नदियां उफान पर, बाढ़ का गंभीर खतरा

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में सरयू नदी मंगलवार को खतरे के लाल निशान को पार कर गयी है वहीं बलरामपुर जिले के सितई घाट पर राप्ती नदी का जलस्तर के खतरे के निशान से ऊपर चले जाने के बाद सिंचाई विभाग ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के छह जिलों में अलर्ट जारी कर बाढ़ सुरक्षा से संबंधित सभी तैयारियां पूरी करने का निर्देश दिया है।
बस्ती जिला में आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को सरयू नदी खतरे के निशान से 35 सेमी ऊपर बह रही है। जलस्तर निरंतर बढ़ने से रिहायशी क्षेत्रों में पानी पहुंचने लगा है। केशवपुर, बाघानाला गांव, भरथापुर, कल्याणपुर, चानपुर, पड़ाव, सहजौरा खलवा, धरमूपुर, दुबौलिया, खजांचीपुरवा, सुबिका बाबू, कटरिया, बैरागल, विशुनदासपुर, पारा, चांदपुर, दिलासपुर, सहित तटवर्ती गांवों के लोग बाढ़ के भय से भयभीत हैं। वहीं आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बलरामपुर, सिद्धार्थ नगर, महाराजगंज, संत कबीर नगर, गोरखपुर और देवरिया जिले में बाढ़ से सुरक्षा का अलर्ट जारी किया गया है।
स्टीमर सुरक्षित
उत्तर प्रदेश में लखीमपुर-खीरी जिले के तिकुनियां इलाके में बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में राहत सामग्री वितरण करने गया स्टीमर कौडियाला नदी के बालू में फंस गया, जिसे सोमवार देर रात निकाल लिया गया। स्टीमर पर स्थानीय लोगों के अलावा निघासन तहसील के नौ लेखपाल, तीन अध्यापक समेत कुल 53 लोग सवार थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Jagdip Dhankhar

धनखड़ के खिलाफ विधान सभा से संसद तक मोर्चाबंदी

कोलकाता : ऐसा पहली बार हुआ है जब विधानसभा में सत्ता पक्ष ने धरना दिया। कारण थे राज्यपाल जगदीप धनखड़, जिन पर विधेयकों को मंजूरी आगे पढ़ें »

मेरे कंधे पर बंदूक रखकर चलाने की को​शिश न करें – धनखड़

कोलकाता : राज्यपाल जगदीप धनखड़ और तृणमूल सरकार के बीच संबंधों में मंगलवार को और खटास आ गयी जब उन्होंने ‘कछुए की गति से काम आगे पढ़ें »

ऊपर