आज दशक का पहला सूर्य ग्रहण

हैदराबाद : दशक का पहला पूर्ण सूर्य ग्रहण रविवार को लगेगा और ‘यह रिंग ऑफ फायर’ की तरह नजर आयेगा, जिसे देखने के लिए लोगों में काफी उत्साह है। प्लैनेटरी सोसायटी ऑफ इंडिया (पीएसआई) के निदेशक एन रघुनंदन कुमार ने शनिवार को बताया कि पूर्ण सूर्य ग्रहण उस समय लगता है जब सूर्य और चंद्रमा का एक दूसरे से सामना होता है, लेकिन चंद्रमा का आकार तुलनात्मक रूप से छोटा होने के कारण सूर्य एक चमकती हुई अंगूठी की तरह नजर आता है। साथ ही उन्होंने बताया कि पूर्ण सूर्य ग्रहण केवल उत्तरी भारत के कुछ जगहों पर ही दिखेगा जबकि देश के बाकी हिस्सों में यह आंशिक रूप से नजर आयेगा। भारत में विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग समय पर सूर्य ग्रहण सुबह 9.56 बजे से लेकर दोपहर बाद 14.29 बजे तक दिखेगा।
द्वारका में सबसे पहले और डिब्रूगढ़ में सबसे अंत में नजर आयेगा
भारत में द्वारका के लोग सबसे पहले (सुबह 9.56 बजे) सूर्य ग्रहण देख सकेंगे। देश में सबसे अंत में ( दोपहर बाद 14.29 बजे ) सूर्य ग्रहण असम के डिब्रूगढ़ में नजर आयेगा। कुमार ने कहा कि तमिलनाडु के कन्याकुमारी में सूर्य ग्रहण सबसे पहले (दोपहर बाद 1.15 बजे) समाप्त हो जायेगा।
सबसे पहले कांगो में दिखेगा सूर्य ग्रहण
सूर्य ग्रहण विश्व में अफ्रीका (पश्चिमी और दक्षिण हिस्सों को छोड़कर), दक्षिण-पूर्व यूरोप, मध्य-पूर्व, एशिया (उत्तरी और पूर्वी रूस को छोड़कर) और इंडोनेशिया में दिखाई देगा। सूर्य ग्रहण सबसे पहले अफ्रीकी देश कांगो में दिखाई देगा। भारत के सूरतगढ़ (राजस्थान), सिरसा, कुरुक्षेत्र (हरियाणा) और उत्तराखंड के देहरादून, चमोली एवं जोशीमठ में लोगां को पूर्ण सूर्य ग्रहण (रिंग ऑफ फॉयर के जैसा) देखने का असवर मिलेगा। भारत के बाद चीन, ताइवान और प्रशांत महासागर क्षेत्र से सूर्य ग्रहण दिखाई देगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर