आज जरूर करें ये उपाय, भगवान शंकर होंगे प्रसन्न

कोलकाता : सनातन धर्म में भगवान विष्णु, भगवान शिव व भगवान ब्रह्मा को त्रिदेव माना गया है। ऐसे में सप्ताह का चौथा दिन यानि बृहस्पतिवार जहां भगवान विष्णु को समर्पित माना गया है। वहीं सप्ताह का पहला दिन यानि सोमवार भगवान शिव का होता है। माना जाता है इस दिन महादेव को प्रसन्न करना काफी आसान होता है। भगवान शिव देवों के देव माने गए हैं और यही कारण है कि वह अपने भक्तों की हर इच्छा को पूर्ण करते हैं। संतान से लेकर जीवनसाथी, सुख-समृद्धि और दुख-संकट सब कुछ शिवजी चाहे तो हर सकते हैं।

खास उपाय

1. अच्छा जीवनसाथी पाने के लिए
अच्‍छा जीवनसाथी पाने के लिए भी सोमवार को भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करें और व्रत रखें। कम से कम 16 सोमवार का व्रत तो अवश्य करें।

2. चंद्र ग्रह की अनुकूल पदार्थ
सोमवार के दिन चंद्र ग्रह के अनुकूल सफेद खाद्य पद्धार्थ जैसे दूध व दूध से बनी चीजें, चावल, सफेद तिल, अखरोट-मिश्री, बर्फी का सेवन करना चाहिए।

3. शिवलिंग का पूजन
जल में कुछ तिल मिलाकर 11 बेलपत्र के साथ शिवलिंग को अर्पित करें। साथ ही मान्यता है कि शिवलिंग पर हमेशा मिश्री अर्पित करने के बाद ही जल चढ़ाना चाहिए। दरअसल, इस तरह की गई पूजा ही आपकी विधि पूर्ण मानी जाती है।

4. शादीशुदा जिंदगी को बाधा रहित करने के लिए...
दांपत्य जीवन में परेशानी आ रही हो या विवाह में बाधा आ रही हो तो सोमवार की सुबह गौरी-शंकर रुद्राक्ष शिवजी के मंदिर में चढ़ाएं।

5. कीर्ति में वृद्धि के लिए
सोमवार के दिन मछलियों को आटे की गोलियां बनाकर खिलाने से धन, यश, वैभव और कीर्ति में वृद्धि होती है।

6. गौमाता का आशीर्वाद
मान्यताओं के अनुसार, सोमवार को सफेद गाय को रोटी व गुड़ खिलाना चाहिए। इससे आपके सभी कष्ट दूर हो जाएंगे।

7. खीर बनाकर करें दान
सोमवार को सफेद वस्तु जैसे दूध, दही, कोई सफेद कपड़ा, चीनी आदि का दान करना चाहिए। आप खीर बना कर गरीबों में भी बांट सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इस दिशा में सिर रखकर भूलकर भी न सोएं, जानिए किस तरह सोने से मिलेगा लाभ

कोलकाताः अच्छी सेहत के लिए भरपूर नींद लेना जरूरी है। दिनभर थकने के बाद हम रात को सोते समय इस बात का ध्यान नहीं रखते आगे पढ़ें »

यहां बोरिंग से पानी की जगह निकल रही है आग

मध्य प्रदेश : प्राकृतिक खनिजों से भरे मध्य प्रदेश से एक और हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। राज्य के दमोह जिले के आगे पढ़ें »

ऊपर