अब लेट नहीं होंगी ट्रेनें, हर ट्रेन में होंगे 22 डिब्बे

नई दिल्लीः सर्दियों के दौरान कोहरे से ट्रेनों का लेट होना आम बात है। इसी जुमले को खत्म करने के लिए भारतीय रेलवे ने एक नई योजना तैयार की है, जिसके चलते अब ट्रेनें लेट नहीं होंगी। अब यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर घंटों इंतजार नहीं करना होगा। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने बयान दिया है कि जल्द ही अब हर ट्रेनों में 22 डिब्बे लगे होंगे, जिससे ट्रेनें केवल नाम बदलकर बिना समय गंवाए किसी भी रूट पर चलने के लिए हमेशा तैयार रहेंगी।
वर्तमान में कितने डिब्बे?
मौजूदा आईसीएफ और एलएचबी कोचों के अनुसार रेल गाड़ियों में क्रमश: 12, 16, 18, 22 और 26 डिब्बे लगे होते हैं। मुख्य ट्रेन लेट होने की स्थिति में रेलवे विभाग किसी दूसरी ट्रेन को उस नाम से नहीं चला पाता ऐसे में यात्रियों को घंटों अपनी ट्रेन का इंतजार करना होता है। भारतीय रेलवे ने नई योजना के मुताबिक पहले चरण में करीब 300 रेलगाड़ियों तथा मेनलाइन और बिजी रुट्स की पहचान कर ली गई है। जुलाई महीने से इन 300 ट्रेनों का संचालन अब नए टाइम टेबल के अनुसार किया जाएगा।
300 ट्रेनों और नए रुट्स की पहचान
रेलवे लगभग 300 ऐसी ट्रेनों का समूह तैयार करने जा रहा है, जिन्हें कभी भी नाम बदलकर किसी भी रुट्स पर दौड़ाया जा सकता है। योजना के पहले चरण में ट्रेनों की संख्या में परिवर्तन तथा नए मेनलाइन एवं व्यस्त रुट्स की पहचान कर ली है।
मौजूदा कोचों में बदलाव
रेलवे की इस नई योजना के मुताबिक अब हर ट्रेनों में 22 डिब्बे लगे होंगे। इसका फायदा रेलवे का यह मिलेगा कि जरूरत अनुसार कभी भी ट्रेन का नाम बदलकर किसी भी रुट्स के लिए परिचालन किया जा सकेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

विवादों में फंसे टैक्स रेवेन्यू को प्राप्त करने के लिए वित्त मंत्री ने ‘सबका विश्वास’ स्कीम लांच की

नई दिल्ली : ‘सबका विश्वास’ नाम से शुरू की गई मुकदमेबाजी और विवादों में फंसे इनडायरेक्ट टैक्स रेवेन्यू को करदाताओं के साथ सहमति बनाकर निकालने आगे पढ़ें »

Ikbal Ansari

अयोध्या फैसले के बाद मुस्लिम धर्मगुरुओं ने अधिग्रहित 67 एकड़ जमीन से हिस्सा देने की मांग की

अयोध्या : राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद में प्रमुख मुद्दई रहे इकबाल अंसारी तथा कुछ मुस्लिम धर्मगुरुओं ने यह मांग की है कि वर्ष 1991 में आगे पढ़ें »

ऊपर