अब भी लोगों को राहत नहीं, सिर्फ एक फीट ही घटा पानी, महामारी का खतरा बढ़ा

Rain havoc in Bihar

पटनाः जल मग्न राजधानी पटना में अभी भी लोगों को राहत नहीं मिल पाई है। पिछले पांच दिनों से शहर के निचले इलाकों में सिर्फ एक फीट ही पानी कम हुआ है। कुछ इलाकों में लोगों को राहत मिली है। ऐसे में यहां महामारी का खतरा बढ़ गया है। डूबे हुए क्षेत्रों में लोग बीमार होने भी शुरू हो गए हैं। इस बीच विशेषज्ञों ने भी लोगों को बीमारियों से बचने के लिए चेत्ताया है।
पीडि़तों को राहत पहुंचाने के लिए प्रशासन भले ही पूरी ताकत से लगा हो, लेकिन स्थितियां जस की तस बनी हुई हैं। सबसे बुरी स्थिति भागलपुर और पटना की है। भागलपुर के 265 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। पटना नगर के जल-जमाव वाले इलाकों में तो अब महामारी का खतरा मंडराता दिख रहा है। इस बीच प्रशासन फॉगिंग भी करा रहा है।

जल जमाव की चपेट में 17 लाख आबादी
भारी बारिश, बाढ़ व जल-जमाव की आपदा की चपेट में बिहार के 97 प्रखंडों के 786 गांवों की 17.09 लाख आबादी आई है। पटना, भागलपुर, भोजपुर, नवादा, नालंदा, खगडिय़ा, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, बक्सर, कटिहार, जहानाबाद, अरवल और दरभंगा मुख्य रूप से प्रभावित हुए हैं।

14 जिले प्रभावित
पटना ही नहीं राज्य के 14 जिले इस बारिश व बाढ़ से प्रभावित हुए हैं, जिसमें से सबसे ज्यादा हालत भागलपुर का खराब है। कटिहार के सोनैली-कटिहार पथ पर पानी चढ़ने से आवागमन ठप। कदवा स्थित शिवगंज डायवर्सन पर बह रहा पानी। नाव से आर पार हो रहे हैं लोग।

42 की मौत
अब तक 42 लोगों मारे जाने और नौ के घायल होने की सूचना है। हालांकि मृतकों की संख्या और भी बढ़ सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

beaten

बालू लेकर जा रहे ट्रकों को रोकने पर सरकारी अधिकारियों की लाठी-डंडों से पिटाई

खड़गपुर : पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मिदनापुर जिले में बालू लदे ट्रक को रोकने पर अधिकारियों के पीटे जाने का मामला सामने आया है। बताया आगे पढ़ें »

आज सोने – चांदी के भाव में गिरावट, जानिए कीमत

 नई दिल्ली : आज सोने के वायदा भाव में गिरावट देखने को मिली। अंतर्राष्ट्रीय कीमतों में भी आज सोने में गिरावट रही। ब्लूमबर्ग के मुताबिक आगे पढ़ें »

ऊपर