अब भी लोगों को राहत नहीं, सिर्फ एक फीट ही घटा पानी, महामारी का खतरा बढ़ा

Rain havoc in Bihar

पटनाः जल मग्न राजधानी पटना में अभी भी लोगों को राहत नहीं मिल पाई है। पिछले पांच दिनों से शहर के निचले इलाकों में सिर्फ एक फीट ही पानी कम हुआ है। कुछ इलाकों में लोगों को राहत मिली है। ऐसे में यहां महामारी का खतरा बढ़ गया है। डूबे हुए क्षेत्रों में लोग बीमार होने भी शुरू हो गए हैं। इस बीच विशेषज्ञों ने भी लोगों को बीमारियों से बचने के लिए चेत्ताया है।
पीडि़तों को राहत पहुंचाने के लिए प्रशासन भले ही पूरी ताकत से लगा हो, लेकिन स्थितियां जस की तस बनी हुई हैं। सबसे बुरी स्थिति भागलपुर और पटना की है। भागलपुर के 265 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। पटना नगर के जल-जमाव वाले इलाकों में तो अब महामारी का खतरा मंडराता दिख रहा है। इस बीच प्रशासन फॉगिंग भी करा रहा है।

जल जमाव की चपेट में 17 लाख आबादी
भारी बारिश, बाढ़ व जल-जमाव की आपदा की चपेट में बिहार के 97 प्रखंडों के 786 गांवों की 17.09 लाख आबादी आई है। पटना, भागलपुर, भोजपुर, नवादा, नालंदा, खगडिय़ा, समस्तीपुर, लखीसराय, बेगूसराय, वैशाली, बक्सर, कटिहार, जहानाबाद, अरवल और दरभंगा मुख्य रूप से प्रभावित हुए हैं।

14 जिले प्रभावित
पटना ही नहीं राज्य के 14 जिले इस बारिश व बाढ़ से प्रभावित हुए हैं, जिसमें से सबसे ज्यादा हालत भागलपुर का खराब है। कटिहार के सोनैली-कटिहार पथ पर पानी चढ़ने से आवागमन ठप। कदवा स्थित शिवगंज डायवर्सन पर बह रहा पानी। नाव से आर पार हो रहे हैं लोग।

42 की मौत
अब तक 42 लोगों मारे जाने और नौ के घायल होने की सूचना है। हालांकि मृतकों की संख्या और भी बढ़ सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Share profit

शेयर बाजार में आईआरसीटीसी की बंपर लिस्टिंग, निवेशक हुए मालामाल

नई दिल्ली : इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) ने बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर 101.25 प्रतिशत और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 95.62 आगे पढ़ें »

doodle

गूगल ने आज का डूडल जोसेफ प्लेत्यू को किया समर्पित, इनकी वजह से देख पा रहे फिल्में

नयी दिल्ली : गूगल ने आज यानि सोमवार को फेनाकिस्टिस्कोप के आविष्कारक बेल्जियन भौतिकशास्‍त्री एंतोनी जोसेफ फर्दिनांद प्लेत्यू की 218वी सालगिरह पर उनके सम्मान में आगे पढ़ें »

ऊपर