आजम खान की पत्नी तजीन फातिमा को नामांकन भरने से पहले जमा करना पड़ा 30 लाख रुपये

Azam Khan's wife Tajin Fatima

रामपुर : उत्तर प्रदेश में विधानसभा के 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए आजम खान की पत्नी तजीन फातिमा ने सोमवार को नामांकन दाखिल किया। हालांकि नामांकन से पहले सपा प्रत्याशी तजीन को 30 लाख का जुर्माना भी भरना पड़ा। दरअसल, तजीन पर बिजली विभाग ने हमसफर रिसॉर्ट में बिजली चोरी के मामले में जुर्माना लगाया था। लिहाजा नामांकन के लिए उन्हें बिजली विभाग की अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) जरूरी थी। क्योंकि बिना जुर्माना भरे उन्हें एनओसी नहीं मिलती। इसलिए उन्होंने सोमवार सुबह जुर्माना भरकर एनओसी ली, फिर दोपहर में पति आजम खान के साथ नामांकन दाखिल किया।

आजम खान के खिलाफ 84 से अधिक मामले दर्ज

पत्नी के नामांकन के लिए सांसद आजम खान काफी समय बाद रामपुर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने सभा को संबोधित किया, जहां उन्होंने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि भाजपा ने उन पर 84 से ज्यादा मामला दर्ज कराया है। सा‌थ ही उन्होंने कहा कि अगर सरकार को मुझसे परेशानी है तो वो मेरे से बदला ले, इसमें मेरे परिवारवालों को क्यों घसीट रही हैं। दरअसल, आजम खान के साथ-साथ उनके बेटों, पत्नी, बूढ़े भाई, बूढ़ी बहन और स्वर्गीय मां के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज है। इसके अलावा आजम ने कहा कि मेरे साथियों को भी आरोपी बनाया गया है, जिसमें से कईयों को जेल में भेज दिया गया है।

अदालत से इंसाफ जरूर मिलेगा – आजम

आजम ने अपने सभा में यह भी कहा कि कुछ अधिकारियों की हठ के कारण मामला दर्ज किया गया है और मुझे उम्मीद है कि अदालत से इंसाफ जरूर मिलेगा। साथ ही आजम ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि वे घर-घर जाकर प्रशासनिक कार्यवाई की जानकारी दें और लोगों से समर्थन का अनुरोध करें। मालूम हो कि 84 से अधिक मुकदमे दर्ज होने के बाद आजम ने रामपुर से दूरी बना ली थी। आजम इससे पहले बकरीद के मौके पर सार्वजनिक रूप से दिखे थे। बता दें कि जब समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव रामपुर पहुंचे थे, तब भी आजम नहीं आए थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पटना का महावीर मंदिर ट्रस्ट अयोध्या के राम मंदिर के श्रद्धालुओं के लिए रसोई चलाएगा

अयोध्या : राम मंदिर के दर्शन के लिए अयोध्या के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बिहार का महावीर मंदिर ट्रस्ट सामुदायिक भोज की आगे पढ़ें »

विकास का इंतजार कर रहा है औरंगाबाद का रढुआ धाम

औरंगाबाद : बिहार के औरंगाबाद जिले में ऐतिहासिक, पौराणिक और धार्मिक महत्व के रढुआ धाम को आज भी विकास का इंतजार है। जिले के जम्होर पंचायत आगे पढ़ें »

ऊपर