मोदी की सुरक्षा में तैनात आईएफएस अधिकारी निकली फर्जी, अफगानिस्तान को भेजे संदेश

मेरठ : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक का एक बड़ा मामला सामने आया है। दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा में एक फर्जी भारतीय विदेश सेवा अधिकारी (आईएफएस) को पति के साथ गिरफ्तार किया है। महिला की जब पोल खुली तो पुलिस भी सुनकर दंग रह गई। पूछताछ में महिला ने बताया कि वह खुद को प्रधानमंत्री की सुरक्षा में तैनात प्रमुख सचिव बताती थी। यह महिला कई साल से पुलिस-प्रशासनिक अमले को धोखा देती आ रही थी। मेरठ की रहने वाली यह महिला अपने पति के साथ मेरठ, नोएडा, गाजियाबाद, मुरादाबाद सहित कई जिलों के पुलिस अफसरों को धोखा देकर सरकारी सुविधाओं का लाभ लेती रही। इसी रौब को देखते हुए चकमा खाई नोएडा व मेरठ पुलिस ने इस फर्जी महिला अफसर के साथ सरकारी गनर व दो-दो एस्कॉर्ट उपलब्‍ध कराई थी।
महिला के लैपटॉप में मिली कई अहम जानकारी
पुलिस सूत्रों के मुताबिक जोया के लैपटॉप में कई ऐसी जानकारी मिली हैं, जिससे सुरक्षा संबंधित कई राज खुले हैं। उसने अफगानिस्तान को भी संदेश भेजे हैं। जोया का मकसद क्या था, इसको जानने के लिए सुरक्षा एजेंसियां भी जोया से पूछताछ करने में जुटी हैं। एनआईए ने नोएडा में जाकर जोया से पूछताछ की है। संदेह है कि जोया का कनेक्शन पाकिस्तान से तो नहीं है, इसकी सुरक्षा एजेंसियां जांच पड़ताल करने में जुटी हैं।
झूठ बोलकर ज्वाइंट कमिश्नर के बेटे से की शादी
पुलिस जांच में पाया गया कि महिला के संबंध विदेश में भी है। इससे विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। महिला ने अपने को आर्इएफएस अफसर बताते हुए कानपुर के एक ज्वांइट कमिश्नर के बेटे से शादी की। पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया है। महिला मेरठ के एक डॉक्टर की बेटी है और उसके मेरठ, दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा समेत कई जगह फ्लैट हैं।
इस तरह से खुली पोल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मेरठ यात्रा के दौरान इस फर्जी अफसर ने दो पुलिस एस्कॉर्ट ले ली थी। यह पीएम की सुरक्षा में चूक का एक बड़ा मामला है। कैंट स्थित तिवारी कंपाउंड में डॉ. अयूब खान का परिवार रहता है। डॉ. अयूब की बेटी जोया खान खुद को आईएफएस बताकर एक्सयूवी गाड़ी में नीली बत्ती लगाकर चलती थी। जोया खान खुद को प्रधानमंत्री की स्पेशल सुरक्षा में प्रमुख सचिव के पद पर बताती थी। मेरठ आगमन पर मेरठ पुलिस ने जोया खान को पीएसओ (प्राइवेट सिक्योरिटी ऑफिसर) दरोगा मोहम्मद आसिफ दिया हुआ था। कई जिलों की पुलिस इस महिला को अफसर समझकर वीआईपी सुविधा देती थी। जोया खान करीब सात साल से निशांत निवासी वाराणसी के साथ रहती थी। जोया खान का नोएडा में भी फ्लैट बताया गया है। जोया खान ने वीआईपी सुविधा न मिलने पर एसएसपी गौतमबुद्ध नगर पर रौब जमायाा था। जिस पर एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण को शक हुआ। एसएसपी के निर्देश पर नोएडा पुलिस जोया खान के फ्लैट में पहुंची।
महिला के पास से 4 लैपटॉप समेत अन्य सामान जब्त किया
शुरूआत में जोया खान ने पुलिस को आड़े हाथों ले लिया। एडीजी प्रशांत कुमार का कहना है कि 30 मार्च को इस मामले का पता चला है। बताया कि जब पुलिस ने फ्लैट में तलाशी लेनी शुरू की तो पोल खुल गई। फ्लैट से एपल के 4 लैपटॉप समेत अन्य सामान को पुलिस ने कब्जे में लिया। पुलिस ने पति निशांत को भी हिरासत में लिया है। इसकी जांच एनआर्इए को सौंप दी गर्इ है। वहीं पूरा मामला खुलने के बाद से मेरठ स्थित जोया खान के आवास पर सन्नाटा छाया हुआ है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर