कांग्रेस ने यूपी की 7 सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार उताकर गठबंधन में मची हलचल

लखनऊ : कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में सात सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार उतार कर समाजवादी पार्टी (एसपी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने अपने गठबंधन में हलचल मचा दिया है। इस निर्णय के बाद कांग्रेस भले ही भाजपा के खिलाफ लड़ने का दावा करें लेकिन गठबंधन दल मुस्लिम वोट एसपी-बीएसपी और आरएलडी को नुकसान का आरोप लगा रहे हैं। गठबंधन को यह बेपटरी करने का एजेंडा लग रहा है। वहीं इन 7 सीटों में कांग्रेस को दो सीटों पर अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है- सहारनपुर और खीरी। हालांकि जिन सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवार उतारने से विवाद हो रहा है उनमें बदायूं शामिल है। यहां कांग्रेस ने सलीम शेरवानी को एसपी प्रमुख अखिलेश यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव के खिलाफ उतारा है। बदायूं में करीब 18 लाख वोटर हैं जिनमें से 15 फीसदी मुस्लिम और 30 फीसदी यादव हैं। सूत्रों का कहना है कि अगर दो मजबूत उम्मीदवार एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे तो मुस्लिम वोट कांग्रेस की तरफ ही आकर्षित होंगे। वहीं मायावती के करीबी रहे पूर्व बीएसपी नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी को भी गठबंधन बड़े नुकसान के रूप में देख रहा है। वह 2018 में कांग्रेस में शामिल हो गए और इस बार बिजनौर से चुनाव लड़ रहे हैं। यहां बीएसपी ने गुर्जर नेता मलूक नागर को टिकट दिया है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस निर्वाचन क्षेत्र में 30 फीसदी मुस्लिम हैं और वोटों का बंटवारा होने की प्रबल संभावनाएं हैं।
सीतापुर से कांग्रेस ने कैसर जहां को बनाया उम्मीदवार
कांग्रेस ने सीतापुर से पूर्व बीएसपी नेता कैसर जहां को टिकट दिया है। इस सीट पर फिलहाल बीएसपी ने अभी कोई उम्मीदवार घोषित नहीं किया है लेकिन पार्टी यहां से कांग्रेस को टक्कर देने के लिए मजबूत दावेदार की तलाश कर रही है। एसपी सूत्रों का कहना है कि कुछ कांग्रेस नेताओं को छोड़कर, जो इन सीटों पर अपना असर रखते हैं, कांग्रेस का यहां कोई आधार नहीं है।
मनमुटाव होगा
गठबंधन दल ने दावा किया कि कांग्रेस ने गठबंधन के लिए 7 सीटें छोड़ने की सूचना फैलाई थी लेकिन इन महत्वपूर्ण सीटों को उसमें शामिल नहीं किया और फिर यहां से मुस्लिम उम्मीदवार उतार दिए। इससे लगता है कि यह गठबंधन को नुकसान पहुंचाने का प्रयास है। एसपी के सूत्रों ने कहा, ‘अगर कांग्रेस वाकई गंभीर थी तो उसने बदायूं सीट क्यों नहीं छोड़ी? निश्चित रूप से इससे गठबंधन को तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन बिना वजह मनमुटाव पैदा होगा।’एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘कांग्रेस इस बात से नाराज लग रही है कि हमारे जैसी क्षेत्रीय पार्टियों ने उन्हें गठबंधन में शामिल नहीं किया और इसलिए गठबंधन को नुकसान पहुंचाने की मंशा से ऐसे उम्मीदवार उतार रही है।’ समाजवादी पार्टी प्रवक्ता उदयवीर सिंह ने कहा, ‘पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव सामाजिक न्याय और बीजेपी की हार सुनिश्चित करना चाहते हैं लेकिन कांग्रेस यूपी में अपना संगठन खड़ा करने में ज्यादा ध्यान लगा रही है।’
कांग्रेस क्षेत्रीय दलों को समाप्त करना चाहती है
बीएसपी नेता लालजी वर्मा ने कहा कि कांग्रेस के इस तरह के प्रयासों से गठबंधन के वोटों को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा, वहीं पार्टी के भीतरी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस क्षेत्रीय दलों को समाप्त करना चाहती हैं और वह जो भी कहे लेकिन अपने ऐसे प्रयासों से वह बीजेपी को उन सीटों पर जिताने का काम कर रही है जहां से उसके जीतने का कोई चांस नहीं था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर