बुलन्दी पर पहुंचना आसान, उस पर ठहरना कठिन लेकिन बने रहना कमाल :आनंदीबेन

गोरखपुर : उत्तर प्रदेश की राज्यपाल एवं विश्वविद्यालय की कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने छात्रों से कहा कि बुलन्दियों पर पहुंचना आसान है, उस पर ठहरना कठिन है, लेकिन बुलंदियों पर बने रहना कमाल है। गुरुवार को यहां मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय गोरखपुर के चतुर्थ दीक्षांत समारोह को सम्बोधित करते हुए पटेल ने कहा कि बुलंदियों में ठहरने के लिऐ कठिन परिश्रम और अपने हुनर को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए सतत प्रयास करना आवश्यक है। पूरे विश्व में एक बदलाव की स्थिति है और हम इन बदलाओं को स्वीकार करते हुए स्वदेशी आवश्यकताओं के अनुरूप इसे आत्मसात करना होगा। सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से आम आदमी को लाभ पहुंचाने की दिशा में सब को बढ़-चढ़ कर हिस्सेदारी लेनी चाहिए, जिससे समाज के अंतिम व्यक्ति तक तथा इसका लाभ पहुंच सके। समारोह में उन्होंने एमएमएमयूटी के वर्ष 2018-2019 के 1002 उपाधि धारकों को उन्होंने शुभ कामना देते हुए कहा कि आज से उनका दायित्व देश के उत्थान और विकास के प्रति अधिक महत्वपूर्ण हो गया है, इसलिए उन्हें दृढ़ संकल्प के साथ सृजनात्मक कार्यों में रूचि लेनी होगी। पटेल ने समारोह में प्राथमिक विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को विशेष तौर से मंच पर आमंत्रित करते हुए उन्हें फल और कहानी की एक पुस्तक का वितरण किया। समारोह के मुख्य अतिथि एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हर व्यक्ति के जीवन में कुछ न कुछ सीखने और जानने की इच्छा होती है मगर जीवन में जब तक स्वाघ्याय और प्रेरणा की भावना उत्पन्न नहीं होती तब तक उसके ज्ञान का परिमार्जन नहीं होता है। इस अवसर पर कुलाधिपति पटेज ने इन्फोसिस के संस्थापक इंजीनियर एनआर नारायण मूर्ति को डीएससी की मानद उपाधि से विभूषित किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

sonakshi

रामायण से जुड़े एक आसान सवाल का जवाब न दे पायीं सोनाक्षी, जमकर हुईं ट्रोल

मुंबई : बॉलीवुड अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा शुक्रवार को कौन बनेगा करोड़पति के 11 वें वीकली एपिसोड 'कर्मवीर' में नजर आईं। इस एपिसोड में राजस्‍थान के आगे पढ़ें »

Azam Khan

आजम खान की दिगवंत मां के खिलाफ मामला दर्ज, फांसीघर की जमीन खरीद-फरोख्त का आरोप

  रामपुर : ‌उत्तर प्रदेश की रामपुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी (एसपी) के सांसद आजम खान पर आफत की बारिश रुकने का नाम ही नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर