बसपा ने अब सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले दम पर लड़ने की घोषणा की

लखनऊ : लोकसभा चुनाव में गठबंधन की हार का ठीकरा समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर फोड़ने के अगले दिन बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने सोमवार को सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले दम पर लड़ने की घोषणा की। मायावती ने ट्वीट कर कहा कि जगजाहिर है कि सपा के साथ उसने सभी पुराने गिले-शिकवों को भुलाने के साथ-साथ सन् 2012-17 में सपा सरकार के बसपा व दलित विरोधी फैसलों, प्रमोशन में आरक्षण विरुद्ध कार्यों एवं बिगड़ी कानून व्यवस्था आदि को दरकिनार करके देश व जनहित में सपा के साथ गठबंधन धर्म को पूरी तरह से निभाया। लेकिन लोकसभा आमचुनाव के बाद सपा का व्यवहार बसपा को यह सोचने पर मजबूर करता है कि ऐसा करके भारतीय जनता पार्टी को आगे हरा पाना संभव नहीं है। मायावती ने एक अन्य ट्वीट में मीडिया की भूमिका पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि बसपा की राष्ट्रीय बैठक रविवार को लखनऊ में ढाई घण्टे तक चली। उसके बाद राज्यवार बैठकों का दौर देर रात तक चलता रहा, उसमें भी मीडिया नहीं था। इस बारे में प्रेसनोट जारी किया गया था लेकिन बसपा प्रमुख के बारे में जो बातें मीडिया में फ्लैश हुई हैं वे पूरी तरह से सही नहीं हैं। बसपा की रविवार को हुई राष्ट्रीय बैठक में मायावती ने एक देश एक चुनाव के मसले पर जहां भाजपा को निशाने पर लिया था वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर आरोप लगाया था कि उन्होंने मुसलमानों को टिकट देने में आपत्ति जतायी थी। सपा के शासनकाल में दलित और पिछड़ों पर हुई ज्यादती का खामियाजा भी गठबंधन की हार का कारण बना था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता में लॉजिस्टिक के लिए विश्व बैंक तैयार कर रहा मास्टर प्लान : अमित मित्र

परियोजना की​ लागत करीब 300 मिलियन डॉलर कोलकाता : कोलकाता मेट्रोपॉलिटन एरिया में जल्द ही लॉजिस्टिक के क्षेत्र में बड़ी संभावनाएं सामने आने वाली हैं। इसकी आगे पढ़ें »

अफवाहों पर ध्यान ना दें, हम सब एक हैं – विजयवर्गीय

कोलकाता : भाजपा के सांगठनिक चुनाव काे लेकर शनिवार को माहेश्वरी भवन में भाजपा की अहम बैठक की गयी। इस बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय आगे पढ़ें »

ऊपर