भड़काऊ भाषण मामले में योगी को सुप्रीम कोर्ट की नोटिस

नयी दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को साल 2007 में दिये गये भड़काऊ भाषण के मामले में सोमवार को नोटिस जारी किया। उल्लेखनीय है कि गोरखपुर में साल 2007 में दो पक्षों में हुआ विवाद इतना बढ़ गया कि राजकुमार अग्रहरि की हत्या कर दी गयी। बाद में मामला और बढ़ गया और इसने सांप्रदायिक रूप ले लिया। आरोप है कि उस समय गोरखपुर से तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ ने भड़काऊ भाषण दिया था, जिसके बाद दंगा भड़क गया था। मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाले खंडपीठ ने योगी से पूछा है कि वे यह बताएं कि इस मामले में उनके खिलाफ मुकदमा क्यों न चलाया जाये? इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट से योगी समेत सात लोगों को पहले ही राहत मिल चुकी है। इस मामले में याचिकाकर्ता ने शीर्ष अदालत से कहा कि उनके पक्ष को सुने बिना ही उच्च न्यायालय में मामला खारिज कर दिया गया था।

Leave a Comment

अन्य समाचार

आंखों में आंसू, दिल में गम और गुस्सा : शहीद जवानों को दी गयी अंतिम विदाई

शहीद जवान कौशल कुमार रावत की अंतिम यात्रा में शामिल हुए हजारों लोग आगरा : पुलवामा जिले में आतंकी हमले में शहीद सीआरपीएफ जवान कौशल कुमार रावत की आगरा में एक गांव में शनिवार को अंतिम यात्रा में हजारों लोग शामिल [Read more...]

अमित शाह ने मुख्यमंत्री योगी के साथ लगाई संगम में डुबकी

प्रयागराजः भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बुधवार को यहां संगम में डुबकी लगाई। शाह पहली बार कुंभ मेले में पहुंचे हैं। शाह के साथ भाजपा के संगठन महामंत्री रामलाल, प्रदेश भाजपा के [Read more...]

मुख्य समाचार

पुलवामा हमले के मामले में 23 लोग हिरासत में, जैश-ए-मोहम्मद से संबंधों का है शक

नई दिल्लीः कश्मीर में पुलवामा हमले के मामले में सेना ने 23 लोगों को शक के आधार पर हिरासत में लिया है। सुरक्षाबलों को शक है कि इनका संबंध संगठन जैश-ए-मोहम्मद से हो सकता है। बता दें कि 14 फरवरी [Read more...]

पुलवामा अटैक : सिद्धू-अकाली आमने-सामने, पंजाब विधानसभा में उठी सिद्धू के खिलाफ कार्रवाई की मांग

चंडीगढ़ : अक्‍सर अपने बयानबाजी को लेकर चर्चा में रहने वाले पूर्व क्रिकेटर व पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पुलवामा हमले के बाद अपने बयान को लेकर विवादों में फंस गये है। सिद्धू को भारी आलोचना का सामना [Read more...]

ऊपर