टीटीआई से बचने के फेर में ट्रेन से कटकर चार युवकों की मौत

आरोप : आरक्षित डिब्बे में उनसे टीटीई 500 रुपये मांग रहा था, जिसके डर से वे विपरीत दिशा से उतर कर भागे और राजधानी एक्सप्रेस की चपेट में आ गये
इटावा : जिले में सोमवार को दिल्ली- हावड़ा रेलमार्ग के बलरई रेलवे स्टेशन पर राजधानी एक्सप्रेस की चपेट में आने से चार यात्रियों की मौत हो गयी। पुलिस उपाधीक्षक चंद्रपाल सिंह के अनुसार बलरई रेलवे स्टेशन पर अवध एक्सप्रेस सुबह 7 बजे के आसपास आ कर खड़ी हुई। ट्रेन में भीड़ ज्यादा होने के कारण कौशांबी जिले के जुगराजपुर के रहने वाले चार लोग प्लेटफार्म पर ना उतर कर दूसरी दिशा से कोच बदलने के लिये उतरे लेकिन इस बीच दूसरी रेल लाइन पर राजधानी एक्सप्रेस गुजरी और चारों के उसकी चपेट में आने से घटनास्थल पर ही मौत हो गयी। हादसे में कोई भी रेल यात्री घायल नहीं हुआ है। पूरे प्रकरण की जांच के लिए रेलवे अफसरों की ओर से निर्देश मिले हुए हैं और कोई दोषी पाया गया तो उस पर कार्यवाही होगी। वहीं, कानपुर के गुजैनी निवासी यशवंत ने बताया कि चारों उसके रिश्तेदार हैं। चारों कानपुर से अवध एक्सप्रेस में बैठे थे। यशवंत ने आरोप लगाया कि वे आरक्षित श्रेणी में चढ़ गये थे, जहां टीटीई उनसे 500 रुपये मांग रहा था। टीटीई के डर से सभी विपरीत दिशा से उतर कर भागे तभी राजधानी एक्सप्रेस आ गयी और चार लोग ट्रेन की चपेट में आ गये। मृतकों में जीतू (20), लाल चंद्र (20), सुरेंद्र कुमार (21) पिंटू (18) शामिल हैं। अवध एक्सप्रेस ट्रेन मुजफ्फरपुर से बांद्रा टर्मिनल जा रही थी। बलरई स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर अवध को लूप लाइन पर खड़ा करके कानपुर की ओर से दिल्ली जा रही राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन को पास कराया जा रहा था। उधर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे में चार लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों को हादसे में घायल हुए लोगों के उपचार के समुचित प्रबन्ध करने के निर्देश दिए हैं। पुलिस क्षेत्राधिकारी (चकर नगर) चंद्रपाल ने बताया कि यात्री आरक्षित श्रेणी से जनरल कोच में चढ़ने के लिए नीचे उतर रहे थे तभी वे ट्रेन की चपेट में आ गये। आधा दर्जन लोग घायल भी हुए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार !

बजट कार्यालय ने व्यक्त किया अनुमान वाशिंगटनः अगले वित्त वर्ष में अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार जाने की आशंका है। यह आगे पढ़ें »

new zealand speaker

न्यूजीलैंड : संसद में रो रहे बच्चे को स्पीकर ने पियाला दूध, लोगों ने की सराहना

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के संसद भवन में स्पीकर ट्रेवर मलार्ड ने एक सांसद के बेटे को दूध पिलाया। मालूम हो कि संसद भवन में आमतौर आगे पढ़ें »

ऊपर