अलीगढ़ में बच्ची की हत्या मामले में अभियुक्त की पत्नी और भाई भी गिरफ्तार

लाश को पहले फ्रिज में रखा गया था ताकि वो सड़े नहीं, वकीलों का अभियुक्तों की पैरवी से इनकार
लखनऊ/अलीगढ़ : अलीगढ़ में ढाई साल की बच्ची टि्वकंल की नृशंस हत्या के मामले में पुलिस ने शनिवार को मुख्य अभियुक्त जाहिद की पत्नी और हत्या में शामिल जाहिद के भाई मेंहदी हसन को भी गिरफ्तार कर लिया। जिस दिन मासूम का शव मिला, उसी दिन मेंहदी फरार हो गया था। जाहिद की पत्नी और उसके भाई मेंहदी ने बच्ची की हत्या की बाद उसकी लाश को फ्रिज में रखा था, ताकि वो सड़े नहीं। बच्ची की बॉडी को जाहिद की पत्नी के दुपट्टे में लपेटकर कूड़े में फेंका गया था। जाहिद और उसके साथी असलम को पहले ही पकड़ा जा चुका है। जाहिद और असलम पर पाॅक्सो एक्ट और राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) की कार्रवाई की गयी है। जाहिद का बच्ची के दादा से 10 हजार रुपये के लेनदेन को लेकर विवाद था। 2 जून की सुबह बच्ची का शव कूड़े के ढेर में क्षत-विक्षत हालत में मिला था। वह तीन दिनों से गायब थी। इस मामले में पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है।
दो अभियुक्तों का है आपराधिक रिकार्ड : मामले में गिरफ्तार एक अभियुक्त का सनसनीखेज आपराधिक इतिहास भी है। उसके खिलाफ गुंडा एक्ट लग चुका है और नाबालिगों के साथ यौन अपराध को लेकर दो बार कार्रवाई हुई है। उसके खिलाफ पाक्सो के दो अलग-अलग मामले तथा बलात्कार का एक मामला लंबित है। दिल्ली में अपहरण के एक मामले में वह जेल गया था। पुलिस के मुताबिक, एक पर अपनी ही बेटी से दुष्कर्म, अपहरण और गुंडा एक्ट समेत पांच मामले दर्ज हैं। एडीजी आनंद कुमार ने बताया कि बेटी से दुष्कर्म के मामले में जमानत पर छूटने के बाद उसने कस्बे में एक महिला से छेड़छाड़ की थी। दिल्ली के गोकुलपुरी थाना क्षेत्र से उसके खिलाफ एक बच्चे का अपहरण का मामला दर्ज है। उस पर गुंडा एक्ट के तीन केस दर्ज हैं। वह कुछ दिन पहले ही जमानत पर छूटा था। वहीं, मुख्य अभियुक्त जाहिद जुआरी है। दोस्त उसे सट्टा किंग के नाम से भी बुलाते हैं।
वकीलों ने हत्यारों करने से किया इनकार : घटना से आक्रोशित अलीगढ़ के वकीलों ने मासूम के हत्यारों का मुकदमा नहीं लड़ने का निर्णय लिया है। उनका कहना है कि अगर जिले के बाहर का भी कोई वकील इस मामले की पैरवी करने की हिमाकत करता है तो उसे अदालत परिसर में घुसने नहीं दिया जायेगा।
बच्ची की मां ने की दोषियों को फांसी देने की मांग : इस बीच हैवानियत की शिकार ढाई साल की टिव्कंल की मां शिल्पा शर्मा ने दोषियों को मृत्युदंड देने की मांग की है। उन्होने कहा कि मैं प्रधानमंत्री नरेन्द, मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकारों से गुहार लगाती हूं कि मेरी बच्ची के गुनाहगारों को फांसी दी जाये। अगर वे सात साल बाद जेल से बाहर आये तो ऐसी ही किसी और बच्ची को निशाना बनायेंगे। परिवार के लोगों ने शनिवार को कहा कि अगर 24 घंटे के भीतर उन्हें इन्साफ नहीं मिला तो वे थाने पहुंचकर खुदकुशी कर लेंगे।
जांच एसआईटी के हवाले : सरकार ने ढाई साल की टि्वकंल की हत्या के मामले की जांच विशेष जांच दल (एसआईटी) के हवाले करने की घोषणा की थी। अभियुक्तों के खिलाफ पाक्सो अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया जायेगा। एसआईटी का गठन अलीगढ़ के पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) मनीलाल पाटीदार के नेतृत्व में किया गया है, जो अपनी रिपोर्ट 15 दिन के भीतर देगी। फोरेंसिक दल, स्पेशल आपरेशन ग्रुप (एसओजी) और विशेषज्ञों का दल एसआईटी के अंग होंगे, जो हत्या से जुड़े पहलुओं की जांच तेजी से करने में मदद करेंगे।
खंगाले जा रहे हैं संदिग्धों के फोन रिकार्ड : बच्ची की नृशंस हत्या के मामले में पुलिस सभी संदिग्धों के फोन रिकार्ड खंगाल रही है। जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने पुलिस अभियुक्तों के खिलाफ मजबूत मामला बना रही है, ताकि यह सभी कानूनी प्रक्रियाओं पर खरा उतरे और फास्ट ट्रैक कोर्ट के जरिए तेजी से न्याय सुनिश्चित हो सके। अगर कोई अफवाह फैलाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करता है या शांति भंग का प्रयास करता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाये।
बलात्कार का नहीं मिला है साक्ष्य, फिर भी आशंका से इनकार नहीं : तीन डाक्टरों के पैनल ने बच्ची के शव का पोस्टमार्टम किया। उन्हें बलात्कार का कोई साक्ष्य नहीं मिला, हालांकि फोरेंसिक विशेषज्ञ नमूनों की जांच कर रहे हैं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक, बच्ची के शरीर से किडनी, पेशाब की थैली और प्राइवेट पार्ट गायब मिला है। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने शुक्रवार को कहा था कि प्राथमिकी में पॉक्सो एक्ट भी शामिल किया जायेगा। बलात्कार की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। नमूने फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे गये हैं। बच्ची के परिवार ने दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जतायी है।
प्रदर्शन, कड़े कानून की मांग : अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के शिक्षकों और छात्रों ने इस जघन्य हत्या की कड़ी निन्दा की है। उन्होंने अपराध को अंजाम देने वालों को जल्द और कड़े से कड़ा दंड देने की मांग की। एएमयू शिक्षक संघ की विशेष बैठक में मांग की गयी कि फास्ट ट्रैक कोर्ट का तत्काल गठन किया जाये। एएमयू के छात्रों ने परिसर में कैंडल लाइट मार्च किया। छात्रों ने कानून में बदलाव की मांग की ताकि ऐसे अपराधियों को उसी तरह का कडा दंड मिल सके, जैसा सउदी अरब में मिलता है। प्रदेश कांग्रेस ने इस जघन्य कांड के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर कैंडल धरना दे प्रदर्शन किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

madhya pradesh ats

मध्यप्रदेश में आईएसआई से संबध रखने वाले 5 लोगों को एटीएस ने किया गिरफ्तार

सतना : मध्यप्रदेश में 5 लोगों को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। टेरर फ‌ंडिंग के आगे पढ़ें »

ट्रंप

भारत और अन्य देशों को आतंकवादियों से लड़ना ही होगा -ट्रंप

वॉशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा कि अफगानिस्तान में आतंकवादियों के खिलाफ भारत, ईरान, रूस और तुर्की जैसे देशों को भी आगे पढ़ें »

ऊपर