फर्जी आईएएस बनकर झाड़ती थी रिश्तेदारों को रौब, गिरफ्तार होने पर बोली-अफसर बनकर दिखाउंगी

रांची : झारखंड की राजधानी रांची के अशोक नगर कॉलोनी से पुलिस ने मोनिका नाम की एक फर्जी महिला आईएएस पकड़ा है। आरोपी महिला ने खुद को आईएएस साबित करने के लिए ड्राइवर और बॉडीगार्ड भी रखा था। हालांकि, गिरफ्तारी के बाद मोनिका ने कहा कि जेल से छूटकर वह हर हाल में आईएएस अफसर बनकर दिखाएंगी। उसने बताया कि अपने किए पर उसे पछतावा है, लेकिन वह ये नहीं जानती थी कि ऐसा करना अपराध है। मध्य प्रदेश के कटनी जिले के बड़वारा तहसील के कला गांव की रहने वाली मोनिका ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह 2018 में यूपीएससी परीक्षा में शामिल हुई थी। वह पीटी और मेंस क्लियर कर चुकी थी, लेकिन इंटरव्यू में चूक गई। इसी वजह से उसने फर्जी आईएएस अधिकारी बनने का ढोंग रचा था। अपने आप को आईएएस अधिकारी साबित करने के लिए ड्राइवर और बॉडीगार्ड भी रख लिया। साल 2018 में यूपीएससी की पीटी और मेंस क्लियर करने के बाद मोनिका ने अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को बता दिया था कि वह यूपीएससी क्रैक कर चुकी है। इसके बाद से उसके जानने वाले सभी लोग उसे एक आईएएस के रूप में जानने लगे। इस झूठ से पर्दा न उठ जाए, इसलिए वह आईएएस बनकर स्टेटस मेनटेन करने लगी। फेसबुक पोस्ट में भी उसने खुद को आईएएस घोषित कर रखा था। मोनिका ने पूछताछ में यह भी बताया कि वह रांची, जमशेदपुर सहित कई अन्य जिलों के डीसी-डीडीसी से मिलने भी चली जाती थी। कहीं आईएएस अफसरों की बैठक या कोई कार्यक्रम की जानकारी मिलती थी, तो वहां भी पहुंच जाती थी। फर्जी न लगे, इसलिए वह अपने साथ बॉडीगार्ड, असिस्टेंट कलेक्टर लिखी और सरकारी लोगो वाली कार में घूमती थी। घर में रसोईयां भी रखती थी और पूरे ठाट-बाट से रहती थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

तृणमूल में जाने की चर्चाओं को नकारा अशोक लाहिड़ी ने

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही प्रदेश भाजपा में टूट जारी है। सांसद बाबुल सुप्रियो समेत कई विधायक अब आगे पढ़ें »

ऊपर