बासुकीनाथ में अब पूजा अर्चना के लिए बनेंगे आजीवन दाता कार्ड

दुमका : दुमका जिले में बाबा बासुकीनाथ धाम मंदिर न्यास समिति ने आजीवन दाता कार्ड सदस्य बनाने का निर्णय लिया है। समिति ने रविवार को बताया कि इसके तहत एक लाख एक रुपये न्यास समिति के बैंक खाते में जमा कर कोई भी शिव भक्त श्रद्धालु आजीवन दाता कार्ड सदस्य बन सकते हैं। न्यास समिति के निर्णय के आलोक में आजीवन दाता कार्ड सदस्य बनने वाले श्रद्धालुओं को अपने परिवार के पांच सदस्यों के साथ श्रावणी मेला के दौरान सरकारी पूजा-अर्चना में शामिल होने की सुविधा दी जायेगी। समिति ने आजीवन दाता कार्ड सदस्य बनाने के इच्छुक श्रद्धालु के लिए इलाहाबाद बैंक बासुकीनाथ, स्टेट बैंक जरमुंडी और एक्सिस बैंक की दुमका शाखा के बैंक खाते का नम्बर जारी किया है। इन बैंकों की शाखाओं में अपेक्षित राशि जमा कर श्रद्धालु आजीवन दाता कार्ड सदस्य बन सकेंगे। समिति ने चिकित्सा कोष और खोया-पाया कोष बनाने का भी निर्णय लिया है।

बासुकीनाथ धाम में 31 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किया जलार्पण

अवस्थित फौजदारी बाबा बासुकीनाथ धाम में संपन्न माहव्यापी विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले के दौरान 31 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने भगवान शिव का जलाभिषेक किया। उपायुक्त सह बासुकीनाथ न्यास समिति की अध्यक्ष राजेश्वरी बी. और अनुमंडल पदाधिकारी सह समिति के सचिव राकेश कुमार ने रविवार को बताया कि 17 जुलाई से 15 अगस्त 2019 तक चले विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला में एक माह के दौरान 31,06,406 श्रद्धालुओं ने बाबा बासुकीनाथ धाम में भोलेनाथ पर जलार्पण किया। इनमें 17940 डाक कावड़ियों और शीघ्र दर्शनम की सुविधा के तहत जलार्पण करने वाले 79,249 श्रद्धालु भी शामिल हैं। वहीं, वर्ष 2018 में 21,162 डाक बम और 62,402 शीघ्र दर्शनम सहित कुल 27,68,988 भक्तों ने भगवान शिव का जलाभिषेक किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बेकाबू होता जा रहा है डेंगू, और 2 की मौत

अब तक 19 मरे, साढ़े 11 हजार लोग पीड़ित सन्मार्ग संवादाता कोलकाता : डेंगू का कहर दिन ब दिन बेकाबू होता जा रहा है। रविवार को डेंगू आगे पढ़ें »

mamata banerjee

आज केन्द्र सरकार के प्रतिष्ठानों के कर्मियों को सम्बोधित करेंगी ममता

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज सोमवार को नेताजी इंडोर स्टेडियम में केंद्र सरकार के प्रतिष्ठानों के कर्मचारियों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित करेंगी। इन आगे पढ़ें »

ऊपर