न्यायाधीश हत्याकांड: एसआईटी ने 35-40 लोगों की जुटाई जानकारी, जिन्हें सुनाई थी सजा उनसे भी हुई पूछताछ

धनबाद : धनबाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश-8 उत्तम आनंद हत्या मामले में एसआईटी ने उनके न्यायालय में चल रहे अहम मुकदमों के अभियुक्तों से पूछताछ की। साथ ही मामला दर्ज कराने वालों से भी जानकारी जुटाई। पुलिस ने करीब 35 से 40 लोगों को चिह्नित कर उनसे जज हत्या मामले में जानकारी जुटाई। रंजय सिंह की हत्या के अभियुक्त धैया निवासी झरिया विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह के देवर हर्ष सिंह और इसी मामले के अभियुक्त रांची होटवार जेल में बंद शूटर नंद कुमार उर्फ रूना सिंह उर्फ मामा से पूछताछ की गई। धनबाद से पूछताछ के लिए एक टीम मंगलवार की सुबह रांची गई थी। होटवार जेल में बंद मामा के अलावा टीम ने नीरज सिंह हत्याकांड के शूटर अमन सिंह से भी पूछताछ की। मालूम हो कि जज ने मौत से चंद दिन पहले अमन सिंह के गुर्गों की जमानत याचिका खारिज की थी। पुलिस ने उत्तम आनंद के न्यायालय में चल रहे अहम मामलों के अलावा उन मामलों को भी चिह्नित किया, जिसमें हाल के दिनों में एडीजे-8 ने या तो सजा सुनाई थी या फिर किसी बंदी की जमानत याचिका खारिज की थी। बताया जा रहा है कि धनबाद जेल में अमन सिंह के गुर्गे कतरास निवासी रवि ठाकुर और लखनऊ से जनवरी में गिरफ्तार किए गए अमन सिंह के करीबी अभिनव प्रताप सिंह से जज हत्या मामले में कई सवाल किए गए। दोनों की बेल उत्तम आनंद ने ही खारिज की थी।
रंजय की पत्नी व पिता से टीम ने ली जानकारी
एसआईटी ने झरिया के पूर्व विधायक संजीव सिंह के करीबी रंजय सिंह की हत्या के सभी पहलुओं की समीक्षा की। रंजय सिंह हत्याकांड की अब तक की अपडेट जुटाई गई। पुलिस टीम ने रंजय सिंह की पत्नी रूमी सिंह तथा उनके पिता केशव सिंह उर्फ बच्चू सिंह को भी धनबाद बुलाकर पूछताछ की। धनबाद एसएसपी संजीव कुमार ने कहा, ‘केस से जुड़े आरोपियों और पीड़ितों से पूछताछ की गई। टीमों को धनबाद और रांची जेल भी भेजा गया था। सभी टीमें लौटेंगी तो उनसे पूछताछ में आए तथ्यों की समीक्षा कर जांच को आगे बढ़ाया जाएगा।’
हेड इंजुरी से हुई जज की मौत
न्यायाधीश उतम आनंद की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि उनका जबड़ा और सिर की हड्डी कई जगह पर टूटी हुई थी। रिपोर्ट में मौत का कारण हेड इन्जुरी बताया गया है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से यह पता चला है कि जज उत्तम आनंद के शरीर पर तीन जगहों पर बाहरी चोट और सात जगह अंदरूनी चोट भी हुई थी। जज उतम आनंद को चोट लगने के बाद गिर गये थे, जिसके बाद उनके पेट में खून चला गया था और ब्रेन में भी गंभीर चोट लगी थी। अब पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर पुलिस जांच को आगे बढ़ाएगी।

हाई कोर्ट की फटकार, एक खास जवाब के लिए क्यों सवाल पूछ रही पुलिस
न्यायाधीश हत्याकांड मामले में जांच के लिए बनाई गई विशेष जांच टीम के रवैये पर झारखंड हाई कोर्ट ने भारी ऐतराज जाहिर किया। कोर्ट ने माना कि पुलिस अपने मुताबिक जवाब पाने के लिए गैर मुनासिब सवाल कर रही है। इस मामले में स्वत: संज्ञान लेने वाले हाई कोर्ट ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कहा, ‘मौत का कारण किसी भोथरी और कठोर चीज से सिर में चोट लगना’ पाया गया और पुलिस इस फैक्ट पर सवाल पूछ रही है कि क्या गिरने से इस तरह की चोट लगना संभव है। मुख्य न्यायाधीश रवि राजन और न्यायमूर्ति सुजीत नारायण ने इस मामले में सुनवाई करते हुए कहा, ‘जबकि संबंधित डॉक्टर उस वक्त मौजूद थे, जब सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से पूरी घटना को समझा जा रहा था, ऐसे में उसी डॉक्टर से इस तरह का सवाल क्यों पूछा गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

डेंगू से बचने के लिए हावड़ा में कबाड़ में पड़ी कार को हटायेगा निगम

लार्वा मिलने पर इमारत में लगाये जा रहे हैं 'डेंगू हॉटस्पॉट' के पाेस्टर साढ़े 12 लाख रुपये की लायी गयी गप्पी मछली सन्मार्ग संवाददाता हावड़ा : डेंगू को आगे पढ़ें »

ऊपर