झारखंड सरकार नक्सलवाद की समस्या का जड़ से उन्मूलन करने को प्रतिबद्ध: रघुवर दास

raghuvar das

नयी दिल्ली/ रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि दिसंबर 2004 में उनकी सरकार के सत्ता में आने के बाद नक्सलवाद की समस्या के जड़ से उन्मूलन के लिए वृहत पैमाने पर प्रयास किये जा रहे हैं। दास ने सोमवार को विज्ञान भवन में नक्सलवाद प्रभावित राज्यों की समीक्षा बैठक में कहा कि उनकी सरकार बहुआयामी रणनीति के तहत जहां एक तरफ राज्य पुलिस एवं अर्द्धसैनिक बल लगातार कंधे-से-कंधा मिलाकर नक्सलवाद को जड़ से समाप्त करने का कार्य कर रही है वहां दूसरी ओर लोकप्रिय आत्म-समर्पण एवं पुर्नवास नीति के तहत अनेकों शीर्ष नक्सलियों के द्वारा आत्मसमर्पण किया जा रहा है। इसके साथ ही नक्सल प्रभावित इलाकों में सरकार के द्वारा फोकस एरिया डेवलपमेंट प्लान के तहत अपनी गरीब एवं आदिवासी जनता को आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के साथ अन्य विकास कार्यों का लाभ उपलब्ध कराया जा रहा है।

नक्सली घटनाओं मे कमी

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के अथक प्रयासों के फलस्वरूप 2015 से 2019 की नक्सली घटनाओं की तुलना 2010 से 2014 की नक्सली घटनाओं से की जाये तो इसमें 60 प्रतिशत कमी परिलक्षित हुई है। उसी तरह से जहां इस दौरान नक्सलियों द्वारा मारे गये नागरिकों की संख्या एक तिहाई से भी कम हुई है, वहीं सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गये नक्सलियों की संख्या दोगुनी से भी अधिक हो गयी है। वर्ष 2015 से 2019 के बीच आत्मसमर्पित उग्रवादियों की संख्या दो गुनी हो गयी है। यहां तक की पुलिस हथियार की बरामदगी में भी 33 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

गति पकड़ रहा अभियान

उन्होंने कहा झारखंड में लोकसभा चुनाव ऐतिहासिक रहा है। सुरक्षा बलों के अथक प्रयास से चुनाव के दौरान राज्य में पहली बार किसी तरह की नक्सली हिंसा की कोई घटना नहीं हुई है। लोक सभा चुनाव 2019 के दौरान चुनाव संबंधित विभिन्न कार्यों में सुरक्षा बलों के संलग्न रहने के कारण नक्सल विरोधी अभियान में जो कमी आयी थी वह भी पिछले दो माह से गति पकड़ रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ओडिशा में विवाहित महिला से सामूहिक बलात्कार,महिला अधिकारी को सौंपा केस

संबलपुर : देश में बलात्कार की घटनाएं थमने का नाम ही नहीं ले रही हैं। हैदराबाद,उन्नाव और मालदह की घटना के बाद अब ओडिशा के आगे पढ़ें »

सऊदी के रेस्तरां में एक साथ प्रवेश कर सकेंगे पुरुष और महिला

रियाद : सऊदी अरब की सरकार लगातार रूढ़िवादी विचारधारा को छोड़कर खुली सोच को अपना रही है। इस दिशा में काम करते हुए सऊदी की आगे पढ़ें »

ऊपर