झारखंड : झामुमो से तालमेल कर सकती है भाकपा-माले, 15 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

गिरिडीह : भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी-लेनिनवादी (भाकपा-माले) के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने भाकपा-माले के झारखंड में विधानसभा की 15 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा करते हुए आज कहा कि राज्य से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए उनकी पार्टी वामदल एवं झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के साथ गठबंधन में शामिल हो सकती है।
दीपंकर भट्टाचार्य ने यहां कार्यकर्ता सम्मेलन के बाद बगोदर में पत्रकारों से कहा कि झारखंड विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी झामुमो और वामपंथी दलों से तालमेल को इच्छुक हैं और बातचीत भी चल रही है। उन्होंने कहा है कि उनकी पार्टी राज्य की 15 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। उन्होंने कहा कि 7 नवंबर को गिरिडीह जिले के बगोदर में भाकपा-माले की राज्य कार्यकारणी की अहम बैठक है, जिसमें उम्मीदवारों का नाम तय होगा और गठबंधन पर फैसला लिया जायेगा। राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि झारखंड की रघुवर दास सरकार राज्य के लिए एक अभिशाप है। झारखंड की जनता के समक्ष एक बड़ा अवसर है कि इस सरकार के कुशासन से मुक्त हो। उन्होंने दावा किया कि उनकी पार्टी रघुवर दास की सरकार को सत्ता से हटाने के लिए तैयार है।
रघुवर की लूट और झूठ की सरकार
इस मौके पर धनवार के विधायक राजकुमार यादव ने कहा कि झारखंड में भूख से मरने वाले गरीबों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। जमुआ के चिरुडीह में सावित्री की मौत भूख से हो जाती और सरकारी महकमा चुप्पी साध लेता है। जाहिर है अभी तक गरीबों को राशनकार्ड तक उपलब्ध नहीं कराया गया है। उन्होंने कहा कि संघर्ष करने वाली ताकतों को अपना नुमाइंदा बनाएं तभी क्षेत्र का समुचित विकास हो सकेगा। वहीं, बागेदर के पूर्व विधायक विनोद कुमार सिंह ने कहा कि लूट और झूठ की सरकार में जनता के बुनियादी सवाल गौण हो गए हैं। इंजीनियरिंग की डिग्री लेकर युवा 10 हजार रुपये की नौकरी करने के लिए विवश हैं। पढ़े-लिखे युवाओं को अपने जिले में नौकरी नहीं मिलती है, लिहाजा बड़ी संख्या में युवा पलायन कर जाते हैं। उन्होंने कहा कि संघर्ष की बदौलत ही बुनियादी सवालों का समाधान किया जा सकता है। इसलिए, जनता को चाहिए कि आगामी विधानसभा चुनाव में सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष करने वाली ताकतों के समर्थन में मजबूती से खड़े हो जाएं।
कार्यक्रम की अध्यक्षता उस्मान अंसारी ने की जबकि संचालन विजय पांडेय कर रहे थे। कार्यक्रम को भाकपा-माले के विधानसभा प्रभारी अशोक पासवान, मीना दास, राजेश दास, असगर अली, यशोदा पांडेय, हसीब जावेद काशीनाथ सिन्हा समेत कई अन्य ने संबोधित किया।
चरमरा गई देश की अर्थव्यवस्था

भाकपा-माले के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाते हुए बुधवार (6 नवंबर,2019) को कहा कि इस सरकार में न केवल रोजगार के अवसर समाप्त कर दिए गए बल्कि देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। दीपंकर ने यहां कंदाजोर स्थित बुद्ध विहार मैदान में कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मौजूदा सरकार में देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह चरमरा गयी है, रोजगार के अवसर समाप्त कर दिए गए। इतना ही नहीं, सबसे ज्यादा रोजगार देने वाले रेलवे में छंटनी की साजिश की जा रही है। देश मे मंदी छायी हुई है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने नोटबंदी कर लोगों की जेब से पैसे छीन लिए, जिसका परिणाम है कि अब बैंक या तो बंद हो रहे हैं या जमा रकम की निकासी पर रोक लगाई जा रही है। राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि रिजर्व बैंक से 176 हजार करोड़ रुपये लेकर केंद्र सरकार ने कॉर्पोरेट घरानों को आर्थिक मदद पहुंचाई है। उन्होंने कहा कि इस सरकार में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) की मजदूरी नहीं बढ़ी। बुजुर्गों, विधवा महिलाओं और दिव्यांगों की पेंशन राशि नहीं बढ़ी। आवाम की जेब में पैसे नहीं हैं। यही वजह है कि पूरा देश मंदी की चपेट में है।
दीपंकर भट्टाचार्य ने कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव को आम जनता का चुनाव बनाएं। देश और राज्य की सत्ता पर काबिज सरकारें झूठ और जुमला लेकर वोट चुराने आएंगी इनके जुमलों में आमजन न फंसे। इसकी तैयारी में भाकपा-माले के कार्यकर्ता शिद्दत से जुट जायें। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान पुलवामा के बहाने जनता का वोट चुराया गया, अब राम मंदिर और अनुच्छेद 370 का राग अलापा जाएगा, लिहाजा इनके झूठ का जवाब देना होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पीएम ने पूछा बंगाल में क्या हो रहा है

भाजपा नेता ने निजी सचिव को सौंपी न्यूज क्लिपिंग व वीडियो फुटेज सन्मार्ग संवाददाता अंडाल : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को झारखण्ड के दुमका जाने के क्रम आगे पढ़ें »

dhankhad

राज्यपाल ने मुख्य सचिव और डीजी को बुलाया

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पिछले 3 दिनों से राज्यभर में हिंसा जारी है। इसी बीच राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सोमवार को राज्य के मुख्य सचिव राजीव आगे पढ़ें »

ऊपर