संताल परगना के लोग मोदी को नहीं बल्कि शिबू सोरेन को जानते हैं : शिबू सोरेन

दुमका : झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) प्रत्याशी एवं निवर्तमान सांसद शिबू सोरेन ने बुधवार को कहा कि संताल परगना के लोग नरेंद, मोदी को नहीं बल्कि शिबू सोरेन को जानते हैं और इस वर्ष के लोकसभा चुनाव में भी किसी की मैजिक नहीं चलेगी। सोरेने ने कहा कि संताल परगना के लोग नरेंद्र मोदी को नहीं बल्कि शिबू सोरेन को जानते हैं और इस वर्ष के लोकसभा चुनाव में भी किसी की मैजिक नहीं चलेगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 के आम चुनाव में भी दुमका सीट से उनकी जीत तय है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि शिबू सोरेन और सुनील सोरेन (दुमका से भारतीय जनता पार्टी-भाजपा प्रत्याशी) में अंतर नही है क्या। जल, जंगल और जमीन की रक्षा सिर्फ झामुमो ही कर सकती है न कि सुनील सोरेन। सांसद ने झामुमो नेताओं पर छोटानागपुर काश्तकारी (सीएनटी) और संताल परगना काश्तकारी (एसपीटी) अधिनियम का उल्लंघन कर जमीन खरीदने का मुख्यमंत्री रघुवर दास के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा कि यदि मुख्यमंत्री या भाजपा नेताओं के पास इसका कोई प्रमाण है तो साबित करें। उन्होंने कहा कि ऐसे आरोप लगाकर जनता को राज्य सरकार सिर्फ दिग्भ्रमित कर रही है लेकिन जनता अब सब कुछ समझ चुकी है।
जल, जंगल और जमीन की रक्षा को लेकर संघर्ष जारी रहेगा
सोरेन ने कहा कि झामुमो ने हमेशा जल, जंगल और जमीन की रक्षा को लेकर संघर्ष किया है। आज हालात यह है कि पूंजीवादी ताकतों की वजह से राज्य की जनता अपनी जमीन बचाने में लगी हुई है। आदिवासियों की एकमात्र पूंजी उनकी जमीन ही है, जिसके आधार पर यहां की जनता जिंदा है। यदि जमीन नही बचेगी तो यहां के लोग क्या करेंगे। इसलिए यहां के जल, जंगल और जमीन की रक्षा को लेकर उनका संघर्ष जारी रहेगा। सांसद ने कहा, ‘मुझ पर आरोप लगाये जा रहे हैं कि मैंने 40 वर्षों तक इस क्षेत्र के विकास के लिए कुछ नहीं किया। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि सत्ता में रहकर या सत्ता से बाहर रहकर 40 वर्षो में उनलोगों (भाजपा) ने इस क्षेत्र के विकास के लिए क्या काम किया है।’ उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 के आम चुनाव में उनकी पार्टी जनहित से जुड़े मुद्दों को लेकर जनता के बीच जाएगी, जिनमें शिक्षा, स्वास्थ्य और कृषि समेत अन्य मुद्दे शामिल होंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार !

बजट कार्यालय ने व्यक्त किया अनुमान वाशिंगटनः अगले वित्त वर्ष में अमेरिका का बजट घाटा एक हजार अरब डॉलर के पार जाने की आशंका है। यह आगे पढ़ें »

new zealand speaker

न्यूजीलैंड : संसद में रो रहे बच्चे को स्पीकर ने पियाला दूध, लोगों ने की सराहना

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के संसद भवन में स्पीकर ट्रेवर मलार्ड ने एक सांसद के बेटे को दूध पिलाया। मालूम हो कि संसद भवन में आमतौर आगे पढ़ें »

ऊपर