अब पिंडदान के लिए कर सकेंगे ऑनलाइन बुकिंग

pind daan

पटना : बिहार के गया जिले में इस वर्ष 12 से 28 सितम्बर के बीच लगने वाले पितृपक्ष मेले में अब पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए आने वाले हजारों श्रद्धालुओं को ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा भी मिलेगी। बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गया पितृपक्ष मेला पिंडदान पैकेज की ऑनलाइन बुकिंग शुरू की है। श्रद्धालु ऑनलाइन बुकिंग वेबसाइट www.bstdc.bih.nic.in या www.pitrapakshagaya.com पर कर सकते हैं। वहीं ऑफलाइन बुकिंग पर्यटन निगम के होटल कौटिल्य विहार के काउंटर से होगी। श्रद्धालुओं के लिए पांच तरह के पैकेज हैं। सभी पैकेज को तीन श्रेणियों में बांटा गया है। श्रद्धालु जिस तरह की सुविधा लेंगे उसी अनुसार उन्हें बुकिंग करानी होगी।

पैकेज में मिलेंगी ये सुविधाएं

श्रद्धालुओं को इस पैकेज में खाने-पीने, होटल में ठहरने, आने-जाने के लिए एसी गाड़ी, पूजन सामग्री के साथ पंडा का दक्षिणा तक की सुविधाएं मिलेगी। पिंडदान गया के साथ पुनपुन में कराया जाएगा।

जो अा नहीं सकते उनके लिए ई पिंडदान सुविधा

ऐसे श्रद्धालु जो पिंडदान के लिए गया नहीं आ सकते उन श्रद्धालुओं को ई पिंडदान की सुविधा भी उपलब्‍ध कराई जाएगी। पंडित के द्वारा पिंडदान तीन जगहों पर विष्णुपद, अक्षयवट, फल्गु नदी में होगा। उसका मंत्रोचार, दान-दक्षिणा एवं पूजन सामग्री विधि विधान का संपूर्ण विडियो रिकॉर्डिंग के साथ सीडी/डीवीडी एवं पेन ड्राइव तैयार कर पंडा सुनील कुमार भईया के द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा। इसके लिए शुल्क 19950 रुपए लगेंगे।

श्रद्धालुओं के लिए वाहनों की सुविधा

श्रद्धालुओं के लिए पांच तरह के टूर पैकेज हैं। पैकेज लेने वाले श्रद्धालुओं को वाहनों की बेहतर सुविधा दी जाएगी। श्रद्धालु पटना एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन या पटना शहर के किसी भी कोने से इस नम्बर 8544418374, 8544402437 पर कॉल करके वाहनों की सुविधाएं शीघ्र प्राप्त कर पाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टोक्‍यों ओलंपिक में खिलाड़ियों का पूरा समर्थन करेगा देश : कोविंद

नयी दिल्ली : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि 24 जुलाई से नौ अगस्त तक आयोजित 2020 टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व आगे पढ़ें »

बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी पहुंचीं जयपुर साहित्य महोत्सव में, लेखन चुनौतियों का जिक्र किया

जयपुरः ओमान की लेखिका एवं बुकर पुरस्कार विजेता जोखा अल हार्सी के लिए लेखन का सबसे दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण पहलू समाज में मौजूद अनसुनी और आगे पढ़ें »

ऊपर