बेऊर जेल को बम से उड़ाने की मिली धमकी

bomber threats beur jail for blast

पटना : राजधानी पटना स्थित आदर्श केंद्रीय कारा बेऊर को बम से उड़ाने की धमकी की सूचना खुफिया विभाग से मिलने पर पुलिस महकमे में खलबली मची है। खुफिया विभाग की सूचना के बाद से जेल के भीतर और बाहर की सुरक्षा और बढ़ा दी गई है। पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय के साथ बेऊर जेल पहुंचे गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव आमिर सुब्हानी ने सघन तलाशी अभियान चलाया। जिसमें दो मोबाइल जब्त किए गए हैं। कैदियों के पास से अन्य कोई संदिग्‍ध सामान बरामद नहीं हुआ। इस दौरान मुख्य सचिव ने कहा कि जेल की सुरक्षा व्यवस्था काफी मजबूत है और किसी भी स्थिति से निपटने के लिए सक्षम है। सुब्हानी ने जेल निरीक्षण के बारे में कहा कि यह एक रूटीन प्रक्रिया थी और इसे अलग तरह से देखे जाने की कोई जरूरत नहीं हैं।

आईबी सूचना से पुलिस एलर्ट : मालूम हो कि केंद्रीय आदर्श कारा बेउर सेंट्रल जेल को बम से उड़ाने की धमकी मिली है, जिसके बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है। इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) की तरफ से इस बात की जानकारी मिलते ही बिहार पुलिस एलर्ट हो गई है

स्वाट और बीएमपी के 60 अतिरिक्त जवान तैनात : जेल के अंदर और बाहरी सुरक्षा की जांच के बाद वहां स्वाट और बीएमपी के 60 अतिरिक्त जवानों की तैनाती कर दी गई। साथ ही पहले से तैनात जवानों को मुस्तैद रहने का निर्देश दिया गया है। पुलिस की टीम ने जेल के सभी बैरक की बारीकी से जांच की। अगले आदेश जेल के अंदर और बाहर स्वाट तैनात रहेगी। सिटी एसपी, डीएसपी, एएसपी सहित अन्य पुलिस अधिकारियों को बेउर जेल में निगरानी के लिए निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही बेउर और फुलवारीशरीफ थाने की पुलिस को भी जेल के चारों तरफ कड़ी पहरेदारी का निर्देश दिया गया है।

जेल में बंद हैं कई कुख्यात नक्सली और आतंकवादी : मालूम हो किसाल 2013 में पटना के गांधी मैदान में हुए सीरियल बम ब्लास्ट की घटना को अंजाम देने वाले आतंकवादियों के साथ इसी साल पकड़े गए बांग्लादेशी आतंकवादियों के अतिरिक्त कई कुख्यात नक्सली और अपराधी इस जेल में कैद हैं। इनमें उमर सिद्दीकी, अजहरुद्दीन, इम्तियाज अंसारी, अहमद हुसैन, फखरुद्दीन अहमद, फिरोज आलम, नोमान अंसारी, इफ्तेखार आलम, हैदर अली और मुजीबुल्लाह जैसे आतंकी सहित जहानाबाद जेल ब्रेक कांड का मुख्य आरोपी नक्सली अजय कानू और कई कुख्यात अंडर ट्रायल बन्द हैं। आशंका है कि इन्हें कैद से छुड़ाने के लिए बड़े स्तर पर जेल ब्रेक की साजिश रची जा सकती है। हालांकि ये साफ नहीं हो सका है कि ये प्लानिंग किसके तरफ से रची गई है। गौरतलब है कि 15 नम्बर 2005 की रात में नक्सलियों ने अपने नेता अजय कानू को जेल से छुड़ाने के लिए जहानाबाद में जेल ब्रेक की वारदात को अंजाम दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

zakir

जाकिर नाइक की बोलती बंद, मलेशिया ने धार्मिक भाषण देने पर लगाई रोक

कुआलालमपुर : मलेशिया में भड़काऊ भाषण देने के कारण इस्लामिक धर्म उपदेशक जाकिर नाइक पर पूरे देश में रोक लगा दी गई है। मलेशियाई सरकार आगे पढ़ें »

गाय को बचाने गए 3 किसानों की करंट लगने से मौत

बक्सर : जिले में गाय को बचाने गए 3 किसानों की करंट लगने से मौत हो गई। जानकारी के अनुसार लक्ष्मण डेरा बधार में खेत आगे पढ़ें »

ऊपर