सुशील मोदी ने अयोध्या मामले पर की संयम रखने की अपील

पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राज्य की जनता से अपील करते हुए कहा कि अयोध्या के रामजन्म भूमि मामले में सर्वोच्च न्यायालय का संविधान पीठ जो भी निर्णय करे, उसे सबको धैर्य और शांति के साथ स्वीकार करना चाहिए।
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने कहा कि फैसला 17 नवंबर से पहले जब भी सुनाया जाए, किसी भी पक्ष को इसे अपनी हार-जीत के रूप में नहीं लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी को न मिठाई बांटने की जरूरत है और न ही किसी को मातम मनाना चाहिए। मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) अयोध्या मुद्दे पर अदालत के फैसले को सिर्फ न्याय की जीत मानेगा। उन्होंने कहा, ‘हमें आशा है कि वर्षों से लंबित इस मामले पर ऐतिहासिक फैसला आने के बाद देश में सद्भाव और परस्पर विश्वास का नया युग शुरू होगा।’ भाजपा नेता ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों और समर्थकों से भी अपील की है कि फैसला आने से पहले अयोध्या मुद्दे को लेकर मीडिया या सोशल मीडिया में किसी प्रकार का बयान न दें। उन्होंने कहा कि यह सबके लिए संयम बरतने का समय है। उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाले संविधान पीठ ने अयोध्या मामले की सुनवाई गत 16 अक्टूबर को पूरी कर ली थी और अपना फैसला सुरक्षित रखा था। पीठ न्यायमूर्ति गोगोई के सेवानिवृत्त होने से पहले 17 नवम्बर को इस मामले में अपना फैसला सुना सकता है। दशकों से चले आ रहे इस विवाद के समाधान पर पूरे देश की नजर लगी है। दोनों पक्ष अब तक यही कहते आये हैं कि वे उच्चतम न्यायालय के फैसले का सम्मान करेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों को मेरे खेल के खत्म होने के बारे में लिखने की आदत है, मुझे फर्क नहीं : सुशील

नयी दिल्ली : दिग्गज पहलवान सुशील कुमार उम्र के ऐसे पड़ाव पर है जहां ज्यादातर खिलाड़ी संन्यास की घोषणा कर देते है लेकिन ओलंपिक में आगे पढ़ें »

कोरोना से हुए नुकसान को कम करने के लिए सरकार जल्द नए राहत पैकेजों की घोषणा करेगी

नई दिल्ली : कोरोना के कारण हुए लॉक डाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है। वित्त मंत्रालय लगातार राहत पैकेज पर आगे पढ़ें »

ऊपर