बेहतर चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराना बिहार सरकार की प्राथमिकता : नीतीश कुमार

समस्तीपुर : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार (6 नवंबर,2019) को कहा कि राज्य के लोगों को बेहतर चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता है और इस दिशा में तेजी से काम किया जा रहा है।
नीतीश कुमार ने समस्तीपुर जिले के सरायरंजन प्रखंड के नरघोघी गांव में श्रीराम जानकी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल का शिलान्यास सह कार्यारंभ शिलापट्ट का अनावरण करने के बाद आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण कार्य किए हैं। सात निश्चय योजना के अंतर्गत प्रदेश में तीन मेडिकल कॉलेजों का निर्माण कराया जा रहा है। इसके अलावा केंद्र सरकार के सहयोग से पांच अन्य मेडिकल कॉलेजों का निर्माण हो रहा है। पहले तीन नए मेडिकल कॉलेजों का निर्माण कराया और बाद में तीन और नए मेडिकल कॉलेजों का निर्माण करा रहे हैं, जिसमें पूर्णिया, सारण और समस्तीपुर का मेडिकल कॉलेज शामिल है। मुख्यमंत्री ने कहा कि समस्तीपुर जिले के सरायरंजन के पास अस्पताल का निर्माण कराया जा रहा है। इसे लेकर कुछ लोगों का विवादित बयान चिंताजनक है। इस बात का कोई मतलब नहीं है कि समस्तीपुर मुख्यालय में ही अस्पताल का निर्माण हो। भारत का मतलब नयी दिल्ली नहीं है और बिहार का मतलब पटना नहीं है। यह बात लोगों को समझनी चाहिए। सरायरंजन के पास बनने वाले इस अस्पताल के निर्माण से आसपास के क्षेत्र का भी विकास होगा। यहां आवागमन के लिए सड़कों को और बेहतर बनाया जाएगा। नीतीश कुमार ने कहा कि मंत्रिमंडल से इस अस्पताल की स्वीकृति बहुत पहले मिली थी। इस पर आज सवाल उठाने का कोई मतलब नहीं है और जिस दल के विधायक इस पर प्रश्न उठा रहे हैं, वे क्यों नहीं बता रहे हैं कि पति-पत्नी (लालू प्रसाद यादव-राबड़ी देवी) के शासनकाल में और कांग्रेस के शासनकाल में अस्पताल का निर्माण क्यों नहीं हो पाया? यह 500 बेड का अस्पताल होगा, जिसमें प्रतिवर्ष 100 विद्यार्थियों का नामांकन भी होगा।

राज्य के हर जिले में खुलेंगे प्रशिक्षण संस्थान

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  ने कहा कि राज्य के हर जिले में इंजीनियरिंग कॉलेज, पॉलिटेक्निक कॉलेज, पारा मेडिकल संस्थान, जीएनएम संस्थान, महिला औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) और प्रत्येक सब डिवीजन में एएनएम और आईटीआई का निर्माण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 23 करोड़ 35 लाख रुपये की लागत से 23 जगहों पर जीएनएम संस्थान, 6 करोड़ 35 लाख रुपये की लागत से 54 एएनएम संस्थान, 36 करोड़ 36 लाख रुपये की लागत से 16 नर्सिंग संस्थान, 9 करोड़ 98 लाख रुपये की लागत से 33 पारा मेडिकल कॉलेज का निर्माण कराया गया है। राज्य सरकार द्वारा कुल 2,816 करोड़ रुपये इस पर खर्च किए जा रहे हैं। नीतीश कुमार ने कहा, ‘हम लोगों की सेवा करने के लिए ही काम कर रहे हैं। न्याय के साथ विकास के पथ पर आगे बढ़ रहे हैं। न्याय के साथ विकास का मतलब है हर इलाके का विकास और हर तबके का विकास। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अति पिछड़ा वर्ग, महिला एवं अल्पसंख्यकों के लिए कई काम किये जा रहे हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

पटना का महावीर मंदिर ट्रस्ट अयोध्या के राम मंदिर के श्रद्धालुओं के लिए रसोई चलाएगा

अयोध्या : राम मंदिर के दर्शन के लिए अयोध्या के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए बिहार का महावीर मंदिर ट्रस्ट सामुदायिक भोज की आगे पढ़ें »

विकास का इंतजार कर रहा है औरंगाबाद का रढुआ धाम

औरंगाबाद : बिहार के औरंगाबाद जिले में ऐतिहासिक, पौराणिक और धार्मिक महत्व के रढुआ धाम को आज भी विकास का इंतजार है। जिले के जम्होर पंचायत आगे पढ़ें »

ऊपर