कोर्ट ने आदेश लिया वापस, ऋचा को नहीं बांटनी पड़ेगी कुरान

Court takes order back, Richa will not have to distribute kuran

रांची : सोशल साइट पर धामिक मामले में आप‌त्तिजनक पोस्ट डालने के आरोप में कोर्ट ने कुरान बांटने के अपने आदेश को वापस ले लिया है। जांच अधिकारी की अपील पर कोर्ट ने पुरानी शर्त को पलट दी है। अब 7 हजार रुपये के जमानती बांड और अन्य शर्तों के आधार पर ऋचा को जमानत दी गई है। मामले को तूल पकड़ता देख कोर्ट ने अपना आदेश वापस लिया है। कोर्ट के नये फैसले पर ऋचा पटेल ने कहा कि हमें न्याय मिला है। पुलिस ने बिना जांच कर हमारे ऊपर कार्रवाई की। जबकि हमारा पोस्ट ऑपत्तिजनक नहीं था। किसी को ठेस पहुंचाने वाला नहीं था। हमने रोहिंग्या मुसलमानों के बारे में लिया था। वहीं ऋचा ने आशंका जताई कि कोर्ट के नये आदेश के बाद उसके परिवार पर खतरा बढ़ सकता है। ऋचा ने इस सिलसिले में राज्य महिला आयोग जाकर अपनी शिकायत दर्ज कराई है। आयोग ने उसे उचित कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।

पुलिस कार्रवाई की निंदा : झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) महासचिव विनोद पांडेय ने कहा कि पुलिस ने पोस्ट करने वाले शख्स पर नहीं, बल्कि शेयर करने वाली छात्रा पर कार्रवाई की है। ऐसे में पुलिस की कार्रवाई बेहद निंदनीय है। झारखंड कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि अदालत का यह फैसला सद्भावना की मिसाल है। उधर, दिल्ली में रांची सांसद संजय सेठ ने कहा कि छात्रा ने कोई बड़ा क्राइम नहीं किया था। पुलिस आपस में समझौता करा सकती थी, लेकिन गिरफ्तार कर जेल भेज दी। हमको कोई कह दे कि आपको वोट तभी देंगे, जब दो बार नमाज पढ़िएगा, तो क्या ये संभव है। यह एक धर्म से जुड़ा मुद्दा है। इसलिए जहां भी आवाज उठनी होगी।

क्या था पूरा मामला : बता दें कि रांची के पिठोरिया की छात्रा ऋचा पटेल ने सोशल साइट पर धार्मिक पोस्ट किया था। इसके बाद अंजुमन इस्लामिया (पिठोरिया) के प्रमुख मंसूर खलीफा ने रांची के पिठोरिया थाने में 12 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसमें उन्होंने ऋचा पर मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया। इसके बाद पिठोरिया पुलिस ने शुक्रवार की शाम को ऋचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस मामले में सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत ने कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर ऋचा को जमानत दी थी। कोर्ट ने यह भी कहा था कि पिठोरिया पुलिस के संरक्षण में मंगलवार शाम तक ऋचा कुरान की एक प्रति अंजुमन इस्लामिया के सदर मंसूर खलीफा को देगी। बाकी चार विभिन्न शिक्षण संस्थानों में बांटेगी। इसके लिए ऋचा को 15 दिन का समय दिया गया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

current

कर्नाटक: सरकारी हाॅस्टल के 5 छात्रों की करंट लगने से हुई मौत

बेंगलुरू : कर्नाटक में हुए दर्दनाक हादसे में एक सरकारी हॉस्टल में करंट लगने से पांच छात्रों की मौत हो गई। घटना की सूचना पाकर आगे पढ़ें »

अनुच्छेद 370 हटाने पर कांग्रेस के स्टैंड से हुड्डा नाराज

पानीपत : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने पर कांग्रेस के स्टैंड से पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा नाराज चल रहे हैं। वे पार्टी के आगे पढ़ें »

ऊपर