घुसुड़ी में दिन दहाड़े युवक को मारी गयी गोली, मौत

साल 2012 में युवक के पिता विजय महतो की भी हत्या हुई थी
आपसी विवाद बताया जा रहा है मुख्य कारण
हावड़ा : शीतना मां के स्नान के दिन घुसुड़ी इलाके में गोली चलायी गयी। इस घटना में युवक को कुछ बदमाशाें ने दिनदहाड़े गोली मार दी। इस घटना में युवक की मौत हो गयी। इस दौरान विशाल महतो नामक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया था। इसके बाद उसे कोलकाता के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। पुलिस के अनुसार विशाल पेशे से तो कुछ नहीं करता था लेकिन हाल ही में उसने तृणमूल से भाजपा व फिर से तृणमूल ज्वाइन किया था। हालांकि पुलिस के अनुसार यह किसी भी प्रकार से राजनीतिक मामला नहीं है। वहीं विशाल के पिता विजय महतो को भी कुछ लोगों ने साल 2012 में गोली मारकर हत्या कर दी थी।
क्या हुई थी घटना
मालीपांचघड़ा थानांतर्गत गोसाई घाट में रहनेवाला विशाल (25) शुक्रवार को उत्तर हावड़ा के उत्सव शीतला मां के स्नान के दौरान मंदिर जाकर अपने घर पहुंचा। करीब 12 बजे जब वह नहाकर वापस शीतला मां उत्सव में जाने के लिए तैयार होकर अपने घर के सामने बैठा था, तभी दो बदमाश मोटरसाइकिल पर सवार होकर आये और उसे गोली मार दी। इस घटना में वह गंभीर रूप से घायल हो गया। गोलियों की आवाज सुनकर घरवाले व आसपास के लोग एकत्रित हुए और इसकी जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस इलाके के लोगों की मदद से उसे पहले हावड़ा जिला अस्पताल ले गयी। इसके बाद उसे कोलकाता के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहीं इस घटना के बाद से ही इलाके में तनाव व्याप्त है।
घरवालों ने लगाया आपसी विवाद का आरोप
विशाल के बड़े पापा बाबू लाल महतो ने कहा कि उसका इलाके के ही रहनेवाले विक्रम सोनार नामक एक लड़के से कुछ दिनों पहले विवाद हो गया था। इसके कारण उसकी हत्या करवायी गयी है। वहीं उसकी बड़ी मम्मी ने भी कहा कि दिनदहाड़े उसे गोली मार दी गयी। आरोपियों को फांसी दी जानी चाहिए। इसके साथ ही बहन सरिता का भी कहना है कि बगल के रहनेवाले विक्रम ने ही इस घटना को अंजाम दिया है। हालांकि पुलिस का कहना है कि यह जांच का विषय है।
साल 2012 की घटना को दोहराया गया
साल 2012 को 11 अक्टूबर को विशाल के पिता विजय महतो को भी कुछ बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इलाके के लोगों का कहना है कि विशाल अपने पिता के केस में आई विटनेस था। वहीं विजय के हत्यारे अभी जमानत पर बहार हैं। ऐसे में लोगों काे शक है कि कहीं इस मामले के गवाह को खत्म करने के लिए ही इस घटना को अंजाम दिया गया है। बताया जाता है कि विजय लोहे के स्क्रैप का व्यवसायी था। उसकी दुश्मनी अपने पार्टनर से थी। इसके बाद पुलिस ने उसके हत्यारों को गिरफ्तार कर लिया था। वे फिलहाल बेल पर जेल के बाहर हैं। पुलिस सभी पहलुओं से जांच में जुटी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राज्यों में विवाद के बीच केन्द्र के निर्देश, ऑक्सीजन के मूवमेंट पर नहीं होगी कोई रोक

नई दिल्ली : देशभर के अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी किल्लत से बदहाल कोविड-19 मरीजों के बीच दो राज्यों के टकराव के चलते केन्द्र सरकार आगे पढ़ें »

दिल्ली के दो गुंडों के आगे आत्मसमर्पण नहीं करेगा बंगाल : ममता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में विधानसभा का चुनाव धीरे-धीरे अंतिम पड़ाव की तरफ बढ़ रहा है। लेकिन वार-पलटवार का सिलसिला जारी है। पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री आगे पढ़ें »

ऊपर