पूरी फीस देने वाले स्टूडेंट्स काे दिये गये येलो कार्ड, खुले महानगर के बंद स्कूल

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : आखिरकार सोमवार से महानगर के 3 बड़े स्कूल खोल दिये गये। हालांकि एक बार फिर जीडी बिरला स्कूल पर भेदभाव का आरोप लगा। जिन अभिभावकों ने अपने बच्चों की पूरी फीस दे दी है, केवल उन स्टूडेंट्स को ही सोमवार से स्कूल में प्रवेश की अनुमति दी गयी। इसके अलावा पूरी फीस मिटाने वाले स्टूडेंट्स के लिए रातों-रात येलो आइडेंटिटी कार्ड भी बना दिया गया है। इस येलो कार्ड से ही ये समझा जा रहा है कि स्टूडेंट के अभिभावक ने पूरी फीस चुकायी है या नहीं। जिन स्टूडेंट्स की पूरी फीस दी जा चुकी है, केवल उन्हें ही सर्टिफिकेट देने का आरोप भी स्कूल प्रबंधन पर है। पूरी फीस चुकाने वाले कुछ अभिभावकों ने दावा किया कि उन्हें जरूरी तौर पर स्कूल में बुलाकर सर्टिफिकेट और येलो आइडेंटिटी कार्ड दिया गया। ऐसे में सोमवार को इन स्टूडेंट्स ने गले में येलो कार्ड डालकर स्कूल में प्रवेश किया। दो चरणों में परिचय पत्र की जांच करने के बाद ही स्टूडेंट्स को स्कूल में प्रवेश की अनुमति दी गयी। इधर, जीडी बिरला के अलावा अशोका हॉल और महादेवी बिरला शिशु विहार स्कूल भी सोमवार से खोल दिये गये।
अभिभावकों का एक वर्ग फिर पहुंचा अदालत
इधर, सोमवार को जीडी बिरला स्कूल में पूरी फीस नहीं चुकाने वाले स्टूडेंट्स को स्कूल में प्रवेश की अनुमति नहीं दिये जाने को लेकर अभिभावकों का एक वर्ग पुनः अदालत पहुंचा। अदालत में दायर की गयी याचिका में मुख्य तौर पर दो बातों का उल्लेख किया गया है। अदालत की अवमानना का आरोप पहले ही था, अब शिक्षा के मौलिक अधिकार से वंचित करने का आरोप भी जोड़ा गया है। कलकत्ता हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव के बेंच में ये पीआईएल दायर की गयी है जिसकी सुनवाई आज यानी मंगलवार को होगी।
क्या हुआ था मामला
इससे पहले जीडी बिरला प्रबंधन की ओर से स्कूल के गेट पर नोटिस लगायी गयी कि जिन स्टूडेंट्स ने 100% फीस दे दी है, केवल उन्हें ही क्लास करने की अनुमति दी जाएगी। अर्थात् जिन स्टूडेंट्स ने 80% फीस चुकायी है, वे भी क्लास नहीं कर सकेंगे। इसके विरोध में हाई कोर्ट में मामला दायर किया गया था। गत 6 अप्रैल को इस मामले में कलकत्ता हाई कोर्ट की डिविजन बेंच ने निर्देश दिया था कि निजी स्कूलों में फीस बकाया रहने पर भी स्टूडेंट्स को क्लास करने से नहीं रोका जा सकता। इधर, सोमवार को पुनः स्कूल खुलने के बावजूद जिस प्रकार सभी स्टूडेंट्स को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी गयी, इसे देखते हुए क्षुब्ध अभिभावकाें ने सोमवार को ही अदालत में मामला दायर करने की अनुमति मांगी। आज यानी मंगलवार को मामले की सुनवाई होगी। इधर, पूरी फीस चुकाने वाले स्टूडेंट्स को येलो कार्ड दिये जाने के मुद्दे पर शिक्षा जगत से जुड़े कई लोगों ने रोष जाहिर किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अंचल कमेटियों का गठन कहीं उल्टा न पड़ जाये भाजपा को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : प्रदेश भाजपा में भले ही दस्तावेजों में मण्डल कमेटी का कार्य काफी हद तक हो गया है, लेकिन जमीनी स्तर पर असलियत आगे पढ़ें »

ऊपर