भाजपा के कुशासन से त्रिपुरा को करेंगे मुक्त, लड़ाई रहेगी जारीः अभिषेक

फिर अभिषेक के कार्यकम को नहीं मिली अनुमति
भाजपा पर आरोप : मंदिर पहुंचे अभिषेक तो बजाया डीजे
सन्मार्ग संवाददाता
त्रिपुरा : तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व सांसद अभिषेक बनर्जी नये साल की शुरूआत में ही दो दिवसीय त्रिपुरा दौरे पर रविवार को पहुंचें। त्रिपुरा में 2023 में विधानसभा का चुनाव है और पार्टी यहां जीत के लिए कमर कस ली है। इस​ दिन त्रिपुरा पहुंचने के बाद अभिषेक ने मंदिर में पूजा – अर्चना की। अभिषेक ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि जो खुद को हिन्दु धर्म का वाहक कहते हैं लेकिन देखिये क्या हो रहा है। मैं मंदिर आया हूं और मुझे रोकने के लिए भगवान को भी नहीं छोड़ रहे हैं। यहां डीजे बजाया जा रहा है। वहीं एक बार फिर त्रिपुरा में अभिषेक के कार्यक्रम में बाधा उत्पन्न की गयी। आरोप है कि प्रशासन ने कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी है। जानकारी के मुताबिक बारामूंडा इको पार्क में आदिवासियों के एक कार्यक्रम में अभिषेक के शामिल होने बात थी। इसके बाद वे दलीय कर्मी के घर भी जाना चाहते थे।
अभिषेक ने कहा कि नये वर्ष की शुरूआत में ही भगवान का आशीर्वाद लेकर त्रिपुरा की जमीन पर एक बार फिर से जनता के लिए कार्यक्रम शुरू करने जा रहे हैं। भाजपा के कुशासन से त्रिपुरा को मुक्त करके रहेंगे। इसके लिए हमारी लड़ाई जारी रहेगी। अभिषेक ने कहा कि एक इंज भी जमीन हमलोग नहीं छोड़ने वाले हैं। मात्र तीने महीने पहले तृणमूल यहां आयी है, उनके परिणाम सभी के सामने है। हमलोगों ने अपनी जगह नहीं छोड़ी है। जहां प्रार्थी अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं कर पाये वहां तृणमूल ने तीन महीने में प्राय 24 % वोट पाया है और सेकेंड स्थान पर आ गयी। आगरतल्ला में 20 % से ज्यादा वोट हमलोगों को मिला है। आमबासा हो या तेलियामाेड़ा हर जगह कहीं 26 % तो 27 % वोट तृणमूल कांग्रेस ने पाया है। अब हमारे पास 2023 में राज्य के चुनावों की तैयारी के लिए एक साल का समय है और हम यह सुनिश्चित करेंगे कि बिप्लब देब का शासन का गुंडा मॉडल को खत्म करें। अभिषेक ने आरोप लगाया कि यहां कोई उचित अस्पताल, कॉलेज नहीं। क्या राज्य को ऐसे ही चलाना चाहिए? यहां की सरकार सुप्रीम कोर्ट के आदेश का भी पालन नहीं करती है।
मोदी सरकार और ममता सरकार का शासन देखें
उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के सात साल के शासन की तुलना बंगाल में दीदी के 10 साल के शासन से करें, क्या दोनों में अंतर है यह साफ दिखाई देगा। अभिषेक ने कहा कि, मैं भाजपा को चुनौती देता हूं कि वह अपना रिपोर्ट कार्ड लाए और हम अपना रिपोर्ट कार्ड निकालेंगे। फर्क नजर आएगा। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट है कि तृणमूल कांग्रेस ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो भाजपा से सीधे तौर पर मुकाबला कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोविड 19 : महानगर में 44 से घटकर 33 हुई कंटेनमेंट जोन की संख्या

बहुमंजिली इमारतों के लिये जल्द ही निगम में होगी प्रशासनिक बैठक कोलकाता :  कोरोना का कहर राज्य में जारी है। कोलकाता पर भी इसका प्रभाव काफी आगे पढ़ें »

ऊपर