आखिर क्यों चल रहा है दलाल राज ? ममता ने पूछा सवाल

  • सभी परियोजनाएं अंडर प्रोसेस हैं, इसका मतलब क्या है ?
  • प्रशासनिक बैठक में मुख्यमंत्री ने अधिकारियों की लगाई क्लास
  • कहा, पार्टी के होते तो चार तमाचा देती

सन्मार्ग संवाददाता
पुरुलिया/कोलकाता : राज्य में विकास कार्य से लेकर लोगों तक सरकारी परिसेवाएं पहुंचाने तक की प्रक्रिया कैसी चल रही है, वह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद देखती हैं। इसके लिए वे बराबर प्रत्येक जिले में जाकर प्रशासनिक बैठक करती हैं तथा वहां कामों का पूरा लेखा-जोखा लेती हैं। सोमवार को ममता पुरुलिया में थीं जहां उन्होंने डीएम-एसपी से लेकर सभी अधिकारियों की क्लास ली। ममता ने कहा कि आखिर जिले में दलाल राज क्यों चल रहा है। जो भी परियोजनाएं हैं उसकी अपडेट रिपोर्ट के जवाब में कहा जा रहा है कि अंडर प्रोसेस है जबकि पांच साल पहले घोषित की गयी परियोजना शुरू तक नहीं की गयी है। ममता ने कहा कि सरकार की तरफ से जनता को हर परिसेवा दी जा रही है, बावजूद इसके कुछ लोग इतने लोभी हैं कि उनकी चाहत कम ही नहीं होती है। आखिर और कितना चाहिए ?
डीएम से सवाल, काम का ये तरीका क्यों ?
प्रशासनिक बैठक के दौरान डीएम राहुल मजुमदार ने सीएम के सामने वीडियो दिखाने की बात कही जिसके बाद मुख्यमंत्री ने कहा ​कि आपके वीडियो के बाद मैं एक वीडियो दिखाऊंगी। ममता ने डीएम से सीधे सवाल किया कि आखिर क्यों दलाल राज चल रहा है ? किस तरीके से बीएलआरओ कार्यालय में कच्चा पैसा लेकर दलाल चक्र चलाया जा रहा है। वहां के आईसी से सीएम ने सवाल किया कि बीएलआरओ कार्यालय के विपरीत दो दुकानें हैं, उसे पहचानते हो। उसमें एक दुकान का साइनबोर्ड टूटा हुआ है। दुकान के मालिका का नाम कराली किंकर महतो है, उसके पास प्रियंका वैराइटीज है। ममता ने सीधे कहा कि बीएलआरओ कार्यालय में जाने पर कहा जाता है कि दोनों दुकान में जाकर पर्ची कटाएं काम हो जाएगा। वहां म्यूटेशन के लिए एक-एक हजार रुपये लिये जा रहे हैं। सीएम के सवालों पर वहां के प्रतिनिधियों ने कहा कि हां, दीदी सभी आरोप सच हैं। इतना ही नहीं अनपढ़ लोगों से तो न जाने किन चीजों के लिए रुपये लिये जा रहे हैं। ममता ने दोनों दुकानों को सील करने का आदेश दिया है। उसके बाद कार्रवाई होगी कि मामला कैसे दलाल चक्र तक पहुंचा है।
घूस लेने वाले कर्मचारी पार्टी के होते तो चार तमाचा देती
ममता ने कहा कि नीचे तबके के कुछ कर्मचारी घूस ले रहे हैं और बदनाम नेता हो रहे हैं। ये कर्मचारी पार्टी के होते तो उन्हें चार तमाचा मारती। बैठक में पंचायत प्रधान से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों तक ने इन आरोपों को लेकर कहा कि वाकई यहां म्यूटेशन नहीं किया जा रहा है। ममता ने कहा कि डीएम आखिर क्यों नहीं जिला चला पा रहे हैं। ममता ने कहा कि इतना लोभ अगर मेरी पार्टी के नेताओं को होता तो मैं उन्हें चार थप्पड़ मारती क्योंकि मैं इस तरीके का ही शासन करती हूं।
हर परियोजना अंडर प्रोसेस क्यों ?
ममता ने कहा कि यहां जिस भी परियोजना के बारे में अपडेट पूछा जा रहा है, जवाब मिल रहा है अंडर प्रोसेस है। आखिर मामला क्या है, जिस परियोजना की घोषणा पांच साल पहले की थी उसकी शुरुआत तक नहीं की गयी है। विकासकार्य करने का यह तरीका आखिर क्या है। ममता ने आड़सा और बाघमूंडी स्टेडियम की तस्वीर दिखाते हुए पूछा कि ये पांच साल पुराना प्रोजेक्ट है जो शुरू ही नहीं हुआ है, जबकि रिव्यू में लिखा गया है अंडर प्रोसेस।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

4 दिन में दूसरी बार ईएम बाइपास के मेट्रोपोलिटन ब्रिज पर दिखी दरार

कोलकाता : ईएम बाइपास के मेट्रोपोलिटन ब्रिज पर बीते 4 दिन में दूसरी बार दरार देखी गयी है। ऐसे में दरार वाले हिस्से को बैरिकेड आगे पढ़ें »

ऊपर