जब तृणमूल नेता ने चुराया तिरपाल

आरामबाग : पिछली बार राज्य में आए महाचक्रवात अंफान के बाद हुए नुकसान की भरपाई के लिए लोगों को दी जाने वाली सहायता राशि में कथित तौर पर तृणमूल के कुछ नेताओं पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया था। उन पर अपनों को सरकारी सहायता देने का आरोप था, जिसके बाद खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सख्ती दिखाते हुए इस पूरी प्रक्रिया को पारदर्शिता से पूरा करने का सरकारी निर्देश दिया था। इस बार यास तूफान के चले जाने के बाद इसी तरह की सहायता राशि दी जा रही है, जिसमें एक बार फिर तृणमूल नेता पर चोरी करने का आरोप लगा है। मामला आरामबाग का है, यहां अरंडी के पंचायत प्रधान सोहराब हुसैन पर तिरपाल चोरी करने का आरोप है।
हालांकि प्रधान की तरफ से इस पूरे मामले में सफाई दी गई है कि ऐसी कोई बात नहीं है बल्कि वो खुद गांव वालों में तिरपाल और बाकी आवश्यकता की वस्तुएं वितरित कर रहे हैं, जबकि गांव वालों का आरोप है कि उन्हें जरूरत के हिसाब से तिरपाल नहीं मिल रहा बल्कि प्रधान अपनों को उसकी तालिका में शामिल कर तिरपाल दे रहा है। जानकारी के अनुसार यहां के लिए करीब 90 तिरपाल सरकार की तरफ से भेजे गए थे जिसमें से करीब 40 साल का सही ब्यौरा नहीं है कि वह किसे दिया गया। इस बारे में स्थानीय बीडिओ कौशिक बंद्योपाध्याय ने बताया कि मामले की जानकारी उन्हें मिली है जल्दी से लेकर एक कमेटी बनाई जाएगी जो जांच कर देखेगी कि आखिर पूरा मामला क्या है। इधर, गांव वालों को जब पता चला कि पंचायत प्रधान इस तरह की करतूत कर रहा है तो सभी ने मिलकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया और उनके खिलाफ नारेबाजी की।। जानकारी के अनुसार स्थानीय प्रधान के सदस्यों में भी इस मामले को लेकर गुस्सा है, एक सदस्य श्रीकांत बाग ने कहा कि हम लोगों ने भी प्रधान से इस बारे में विस्तृत जानकारी मांगी थी कि आखिर तिरपाल किसे दिया गया और उसका आंकड़ा क्या है। आरोप है कि उस वक्त पंचायत प्रधान ने उनके साथ भी बुरा बर्ताव किया था और कहा कि यह पूरी तरह से उनका मामला है, किसे तिरपाल देना है, कब देना है, वह देख लेंगे । किसी को इसमें हस्तक्षेप करने की जरूरत नहीं है। अब तृणमूल के ही नेताओं में इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं कि पिछली बार सोहराब हुसैन के खिलाफ मामला किया गया था। पार्टी के उच्च नेतृत्व को भी बताया गया था मगर वहां से कोई कार्रवाई नहीं की गई इस बार भी ऐसी ही स्थिति दोबारा आई है देखते हैं पार्टी इस बार क्या करती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल हिंसा : टीएमसी कार्यकर्ताओं पर गैंगरेप का आरोप

महिलाओं ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा कोलकाता : पश्चिम बंगाल से चौंका देने वाली खबर सामने आई है। राज्य की कुछ महिलाओं ने विधानसभा चुनाव आगे पढ़ें »

लॉकडाउनः ‘राज्य में बढ़ जायेगी पाबंदियों की मियाद…’

कोलकाताः देश के कई राज्यों में लॉकडाउन में ढील के बाद पश्चिम बंगाल में भी ऐसी ही उम्मीद की जा रही है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज आगे पढ़ें »

ऊपर