…जब 2 घण्टे तक सीएम को बैठना पड़ा बूथ के अंदर

बोयाल बूथ के पास भिड़े तृणमूल और भाजपा कार्यकर्ता
एक तरफ जय श्री राम तो दूसरी तरफ लगे शुभेंदु गो बैक के नारे
सन्मार्ग संवाददाता
नंदीग्राम : नंदीग्राम का महारण आखिरकार खत्म हुआ, अब इंतजार 2 मई का। लेकिन इस दिन राजनीति के कई रंग देखने को मिले। एक तरफ मुख्यमंत्री व नंदीग्राम से तृणमूल की उम्मीदवार ममता बनर्जी को 2 घण्टे तक एक ही बूथ में बैठे रहना पड़ा तो दूसरी ओर शुभेंदु अधिकारी गो बैक के नारे भी लगाये गये। दरअसल नंदीग्राम के बोयाल इलाके में 7 नं. बूथ पर छप्पा वोट होने का आरोप सुनने के बाद ममता बनर्जी वहां स्थितियों का जायजा लेने के लिए आयी थीं। तृणमूल समर्थकों ने आरोप लगाया कि यहां सुबह से ही तृणमूल के बूथ एजेंट को बैठने नहीं दिया जा रहा है। वहीं भाजपा समर्थकों का आरोप था कि उक्त तृणमूल समर्थकों का बूथ यह नहीं है और वे शांतिपूर्ण मतदान को बाधित करने के लिए झूठे आरोप लगा रहे हैं। ऐसे में दोपहर लगभग 2.20 बजे सीएम जैसे ही उक्त बूथ के पास पहुंचीं तो मैदान के दोनों ओर ही भारी संख्या में तृणमूल और भाजपा के समर्थक एकत्रित हो गये और दोनों ओर से ही नारेबाजी चालू हो गयी। एक तरफ तृणमूल समर्थक शुभेंदु अधिकारी गो बैक और शुभेंदु चोर है के नारे लगा रहे थे तो दूसरी ओर, भाजपा समर्थक जय श्री राम के नारे लगा रहे थे। स्थिति इस दौरान काफी तनावपूर्ण हो गयी थी और दोनों ही ओर से उत्तेजना का माहौल कायम था। इस बीच, पुलिस ने कई बार दोनों ओर ही लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन दोनों ही ओर से लगातार नारेबाजी चल रही थी जिस कारण उत्तेजना काफी बढ़ गयी थी। महिला भाजपा समर्थकों ने कहा कि सुबह से चुनाव शांतिपूर्ण चल रहा था, लेकिन जाे इस बूथ के वाेटर ही नहीं हैं, वे यहां क्यों आये हैं। वहीं तृणमूल समर्थकों का कहना था कि उन्हें सुबह से ही वोट देने नहीं दिया जा रहा है। सीएम जिस बूथ में मौजूद थीं, उसके आस -पास सुरक्षा बलों के लोगों ने घेरा बना दिया ताकि कोई बाहरी व्यक्ति अंदर ना जा पाये। इस दौरान सीएम ने इलेक्शन ऑब्जर्वर के अलावा राज्यपाल जगदीप धनखड़ को फोन कर केंद्रीय बल भेजने के लिए कहा, जिसके बाद भारी संख्या में पुलिस और केंद्रीय बलों के जवान मौके पर पहुंचे और किसी तरह स्थिति को नियंत्रित किया गया।
क्या कहा सीएम ने
बिगड़ी हुई स्थिति का पूरा जिम्मेदार मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग को ठहराया। उन्होंने कहा कि बाहर से गुण्डों को लाकर स्थिति को तनावपूर्ण बनाया गया। उन्होंने कहा कि भाजपा के सहयोग से यह सब कराया गया। यूपी और बिहार से गुण्डे लाये गये थे।
क्या कहा इलाके के लोगों ने
स्थानीय महिला रीता रानी बनिक ने कहा कि नंदीग्राम हिंसा का तो गवाह बना था, लेकिन आज तक कभी इस तरह का ध्रुवीकरण यहां देखने को नहीं मिला था। वहीं एक अन्य युवक ने कहा कि यहां वर्षों से लोग काफी मिल-जुलकर रहते आये हैं, इस तरह का कोई विवाद आज तक नहीं हुआ था।
शुभेंदु भी पहुंचे बोयाल
लगभग 2 घण्टे तक बूथ में रहने के बाद सुरक्षा बलों ने सीएम को बाहर निकाला। सीएम ह्वील चेयर पर बैठकर बाहर निकलीं। सीएम के जाने के बाद शुभेंदु अधिकारी भी बोयाल पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कमिंस-रसेल के अर्धशतक बेकार, केकेआर की लगातार तीसरी हार

कोलकाता को 18 रन से हरा चेन्नई ने लगाई जीत की हैट्रिक मुंबई : आईपीएल 2021 के 15वें मैच चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) ने कोलकाता नाइट आगे पढ़ें »

कोरोना से मरीज त्रस्त, नर्सिंग होम्स बिल बनाने में व्यस्त

दक्षिण कोलकाता के नर्सिंग होम पैकेज पर ले रहे हैं कोरोना मरीजों को कोलकाता : कोरोना के कारण राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था ​अब धीरे-धीरे चरमरा रही आगे पढ़ें »

ऊपर