‘कॉल रिकॉर्ड’ के दावे पर मुश्किल में घिरे शुभेंदु अधिकारी

कोलकाता : पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल हाल ही में शुभेंदु अधिकारी का एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में वो कथित तौर से यह दावा कर रहे हैं कि उनके पास मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के ऑफिस से किए गए सभी फोन के कॉल रिकॉर्ड मौजूद हैं। अब शुभेंदु अधिकारी के इस कथित दावे के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस ने बीजेपी नेता के खिलाफ केस दर्ज किया है। बंगाल पुलिस ने शुभेंदु अधिकारी के ‘कॉल रिकॉर्ड’ वाले बयान पर स्वत: संज्ञान लेते हुए केस दर्ज किया है। इस बयान में शुभेंदु अधिकारी ने कथित तौर से तृणमूल कांग्रेस के नेता अभिषेक बनर्जी और पुलिस अधिकारियों के बीच हुई बातचीत के कॉल रिकॉर्ड उनके पास मौजूद होने की बात कही थी। इस मामले में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एक्ट और आधिकारिक सिक्रेट एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।

क्या कहा था शुभेंदु अधिकारी ने?

35 सेकेंड के एक वीडियो क्लिप में शुभेंदु अधिकारी को कथित तौर से मुख्यमंत्री को ‘चाची’ और टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव और लोकसभा सदस्य अभिषेक बनर्जी को ‘भतीजा’ कहते हुए सुना जा सकता है। वीडियो में शुभेंदु अधिकारी कथित तौर से कहते हैं कि ‘आईओ (जांच अधिकारी), प्रभारी निरीक्षक और पुलिस अधीक्षक की भूमिका की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा की जाएगी। तब तुम समझोगे कि तुम्हें कोई आंटी नहीं बचा सकती। भतीजे के कार्यालय से आपको फोन किया जाता है। मेरे पास सभी फोन नंबर और कॉल रिकॉर्ड हैं। यदि आपके पास राज्य सरकार है, तो हमारे पास केंद्र सरकार है।’ हालांकि, अभी इस वीडियो की पुष्टि नहीं की गई है। लेकिन कहा जा रहा है कि शुभेंदु अधिकारी ने यह बयान सोमवार की दोपहर पूर्वी मिदनापुर में एक जनसभा में दिया है।

पेगासस जासूसी मामले से जुड़े हैं तार?

शुभेंदु अधिकारी के इस बयान को हाल ही में सामने आए पेगासस जासूसी कांड से जोड़ कर भी देखा जा रहा है। टीएमसी के राज्य महासचिव कुणाल घोष ने कहा कि अधिकारी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए और हिरासत में पूछताछ की जानी चाहिए। उन्होंने साबित कर दिया है कि अभिषेक बनर्जी समेत कई लोगों की जासूसी करने के लिए पेगासस का इस्तेमाल किया जाता था। बता दें कि इजरायली कंपनी एनएसओ के पेगासस सॉफ्टवेयर से भारत में कथित तौर पर 300 से ज्यादा हस्तियों के फोन हैक करने की बात कही जा रही है। जिन लोगों के फोन टैप किए गए उनमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव और प्रह्लाद सिंह पटेल, पूर्व निर्वाचन आयुक्त अशोक लवासा और चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर सहित कई पत्रकार भी शामिल हैं। हालांकि, केंद्र सरकार ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है और रिपोर्ट जारी होने की टाइमिंग को लेकर सवाल खड़े किए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इन लोगों को नहीं पीना चाहिए दूध, सेहत के लिए होता है हानिकारक

कोलकाताः बचपन से हम यही सुनते आएं हैं कि दूध पीना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। यह हमारे शरीर में सभी पोषक तत्वों  की आगे पढ़ें »

ऊपर