बंगाल आज मना रहा है खेला होबे दिवस…

कोलकाता : बंगाल में आज खेला होबे दिवस मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पिछले महीने हर साल 16 अगस्त के दिन को ‘खेला होबे दिवस’ के तौर पर मनाने की घोषणा की थी। आज के दिन ममता एक लाख से ज्यादा फुटबॉल बांटेंगी।
क्यों मनाया जा रहा है खेला होबे दिवस?
दरअसल, 40 साल पहले 16 अगस्त 1970 को बंगाल में एक फुटबॉल मैच के दौरान कई लोग मारे गए थे। उन्हीं की याद में ममता बनर्जी ने हर साल 16 अगस्त को खेला होबे दिवस मनाने का ऐलान किया है। सोमवार को बंगाल के कई क्लब में 1 लाख फुटबॉल बांटी जा रही हैं।
ममता बनर्जी का क्या है प्लान?
बीजेपी के आक्रामक कैंपेन के बावजूद ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ने पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत हासिल की। ममता बनर्जी तीसरी बार मुख्यमंत्री बन गईं। इसके बाद से ही उनका आत्मविश्वास बढ़ा हुआ है। अब ममता बंगाल के बाहर भी राजनीति करना चाहती हैं। टीएमसी से जुड़े कुछ सूत्रों का कहना है कि ममता की नजर अब उन राज्यों में है जहां वो अपनी पार्टी को मजबूत कर सकती हैं। सूत्र बताते हैं कि वो नहीं चाहते कि चुनावों में 100 उम्मीदवार उतरे और उनमें से दो ही जीतकर आए। ममता का अब एक ही मकसद है या तो जीतना या फिर मुख्य विपक्षी पार्टी बनना।
क्या 2024 की तैयारी कर रहीं हैं ममता?
ममता बनर्जी ने पिछले महीने ही दिल्ली का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने सोनिया गांधी से लेकर तमाम विपक्षी नेताओं से मुलाकात की थी। माना जा रहा है कि 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले ममता बीजेपी के खिलाफ एक संयुक्त मोर्चा बनाने की तैयारी कर रहीं हैं, ताकि बीजेपी को रोका जा सके। पिछले महीने जब ममता दिल्ली गई थीं, तभी से ऐसी चर्चा है कि वो एक संयुक्त मोर्चा बनाने की कोशिश कर रहीं हैं। जब उनसे पूछा गया था कि क्या एकजुट विपक्ष तख्तापलट कर सकता है, तो उन्होंने कहा था, “अगर आप सीरियस हैं तो 6 महीने में नतीजे दिखा सकते हैं।” उन्होंने कहा था एक ऐसा मंच होना चाहिए जहां सब साथ मिलकर काम कर सकें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इस उम्र की लडकियां चाहती है बिना कंडोम के सेक्स करना

कोलकाता : दुनिया में हमेशा सेक्स को लेकर लड़कों-लड़कियाें के बारे में ना जाने किस-किस तरह की बातें कहीं जातीं हैं। इंडियाना यूनिवर्सिटी ने स्कूल आगे पढ़ें »

ऊपर