टीएमसी से कांग्रेस हुई खफा, अब उपचुनाव में…

कोलकाताः पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद टीएमसी और कांग्रेस के बीच एक दीवार खड़ी हो गई है और सूत्रों के मुताबिक यह दीवर खुद टीएमसी ने खड़ी की है। दरअसल, ममता बनर्जी और उनकी पार्टी टीएमसी ने भाजपा को करारी शिकस्त दी थी। टीएमसी ने चुनाव में जीत के बाद भाजपा के साथ-साथ खुलकर कांग्रेस पर हमला बोलना शुरू कर दिया है। भाजपा के साथ-साथ कांग्रेस के नेताओं को तोड़ कर टीएमसी में शामिल कराने का क्रम शुरू हुआ है। इससे कांग्रेस नेतृत्व नाराज है और उपचुनाव में टीएमसी के खिलाफ उम्मीदवार उतारने का ऐलान किया है। हाल के उपचुनावों से दूर रही कांग्रेस पार्टी ने 30 अक्टूबर को होने वाले राज्य में अगला उपचुनाव लड़ने का फैसला किया है। हाल के उपचुनावों में तृणमूल कांग्रेस को वॉकओवर (आसानी से जीत हासिल करना) देने के बाद कांग्रेस ने अब आगामी चुनाव में अपने उम्मीदवार उतारने की तैयारी कर ली है। कांग्रेस के उम्मीदवार नहीं उतारने का तृणमूल को सीधे तौर पर फायदा हुआ था और उसे उपचुनाव में सभी सीटें जीतने में कामयाबी भी मिली।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शोभन के बैसाखी को सिंदूर लगाने पर रत्ना ने दिया बड़ा बयान

कोलकाता : शोभन चटर्जी ने बैसाखी बनर्जी के माथे में सिंदूर लगाया, उधर शोभन की पत्नी रत्ना चटर्जी ने कहा कि हिंदू विवाह कानून के आगे पढ़ें »

ऊपर