बंगाल में भारी बारिश के बाद बांध से पानी छोड़ा गया, बाढ़ जैसे हालात, 14 की मौत

2.5 लाख लोगों को किया गया विस्थापित
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : पश्चिम बंगाल में दीवार गिरने और करंट लगने से कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई। वहीं, दामोदर घाटी निगम बांधों से पानी छोड़े जाने के बाद पानी सड़कों और घरों में भर जाने से राज्य के 6 जिलों के कम से कम 2.5 लाख लोग विस्थापित हो गए। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने विस्थापितों के लिए आश्रय स्थल बनाए हैं। बाढ़ प्रभावित इलाकों में पिछले एक सप्ताह से राहत अभियान चल रहा है। पूर्व बर्दवान,पश्चिम बर्दवान,पश्चिम मेदिनीपुर, हुगली, हावड़ा और दक्षिण 24 परगना जिले के अनेक स्थानों में कमर तक पानी भरा हुआ है, जिससे लोगों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकारी के मुताबिक, एक लाख से अधिक तिरपाल, एक हजार मीट्रिक टन चावल, पानी के हजारों पाउच और साफ कपड़े आश्रय गृह भेजे गए हैं। उन्होंने कहा,‘हम बाढ़ के कारण जान गंवाने वाले सभी 14 लोगों के बारे में जानकारियां जुटा रहे हैं। हमें जिला प्रशासन से अंतिम रिपोर्ट मिलने का इंतजार है।’ सेना और वायु सेना ने सोमवार को हुगली जिले में बचाव अभियान चलाया जहां नदियां तटों को तोड़ते हुए बह रही हैं, जिससे गांवों में बाढ़ आ गई है।
खानाकुल में उतारी गयी थी सेना
गत सोमवार को हुगली जिले के खानाकुल में भारतीय वायु सेना को बचाव कार्यों के लिए उतारा गया था। सेना ने लगभग 35 लोगों को एयरलिफ्ट किया था जो लोग विभिन्न मकानों की छतों अथवा अन्य असुरक्षित स्थानों पर फंसे हुए थे। यहां कई गांवों में नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।
हावड़ा व मिदनापुर के कई इलाके पूरी तरह जलमग्न
बाढ़ की स्थिति के कारण हावड़ा के ग्रामीण इलाके व मिदनापुर के भी कई इलाके पूरी तरह जलमग्न हो गये हैं। मिदनापुर के घाटाल, दासपुर के अलावा हावड़ा में उदयनारायणपुर व आमता के इलाके पानी में डूब गये हैं। हुगली से हावड़ा ग्रामीण का सम्पर्क भी टूट गया है। उदयनारायणपुर के हरिहरपुर, टोकापुर, शिवानीपुर सह अनेक इलाकों में बांध टूट गये और इन इलाकों में पानी घुस गया। उदयनारायणपुर-तारकेश्वर राज्य सड़क पर भी पानी आ गया। उदयनाराणपुर के सरकारी अस्पताल एवं कॉलेज भी जलमग्न हो गये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

‘अभिषेक से डर गई, इसलिए पदयात्रा की अनुमति नहीं दी’

कोलकाता : तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बंद्योपाध्याय की कल त्रिपुरा में होने वाली पदयात्रा की अनुमति नहीं दी गयी। इस पर राज्य के शिक्षा आगे पढ़ें »

ऊपर