कर्मयोगी बनवारीलाल सोती “विवेकानन्द सेवा सम्मान 2021′ से समादृत

नये भारत के निर्माण में युवाओं की भूमिका महत्वपूर्ण : गजेन्द्र सिंह शेखावत
कोलकाता : “देश आज जिस मुकाम पर खड़ा है, वहां हमें हर पल भारतीय होने पर गर्व महसूस होता है। इस मुकाम को पाने का रास्ता स्वामी विवेकानन्द जैसे प्रेरणा पुरुषों ने दिखाया है। नये भारत के निर्माण में युवाओं की भूमिका अत्यन्त महत्वपूर्ण है।’ ये उद्गार हैं केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के। जो श्री बड़ाबाजार कुमारसभा पुस्तकालय द्वारा स्थानीय रथीन्द्र मंच में आयोजित 35वें विवेकानंद सेवा सम्मान समारोह में कर्मयोगी बनवारीलाल सोती को सम्मानित करने के उपरांत बतौर अध्यक्ष बोल रहे थे। प्रधान वक्ता तथा भारतीय जनसंचार संस्थान के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा कि सेवा की भावना हमारी परंपरा है इसलिए दरिद्र की सेवा करने वाला ही सच्चा महात्मा होता है। सज्जनकुमार तुल्स्यान ने स्वामी विवेकानन्द के प्रेरक जीवन प्रसंगों का उल्लेख करते हुए उनके आदर्शों तथा सांस्कृतिक आध्यात्मिक योगदान की चर्चा की। कर्मयोगी बनवारी लाल सोती ने कहा कि यह सम्मान मेरे माता पिता तथा सहयोगियों से प्राप्त मूल्यों का सम्मान है। यह मुझे मानव और गौ-सेवा में समर्पित रहने के लिए आजीवन प्रेरित करेगा। उन्होंने सम्मान स्वरूप प्राप्त 1 लाख रुपये की राशि को दो-गुना करके कुमारसभा पुस्तकालय को समर्पित कर दी। पुस्तकालय के अध्यक्ष डॉ. प्रेमशंकर त्रिपाठी ने विश्व हिन्दी दिवस, युवा दिवस एवं नववर्ष की शुभकामनाएं दी। गायक ओमप्रकाश मिश्र ने डॉ. अरुण प्रकाश अवस्थी रचित ओ वरेण्य संन्यासी योद्धा गीत की सांगीतिक प्रस्तुति की। योगेशराज उपाध्याय के वैदिक मंत्रों के साथ सोती जी का सम्मान किया गया एवं तथा दुर्गा व्यास ने धन्यवाद ज्ञापन किया। संचालन डॉ. तारा दूगड़ ने किया। महावीर बजाज, राजेन्द्र खंडेलवाल, भागीरथ चांडक, अनिल ओझा नीरद एवं नन्दकुमार लढ़ा ने अतिथियों का स्वागत किया। डा. ऋषिकेश राय, बंशीधर शर्मा, महावीर प्रसाद रावत, मनोज पराशर, रणजीत लूणिया, सुनील हर्ष, मुल्तान पारीक, रविप्रताप सिंह, सागरमल गुप्त, राजकुमार व्यास, चंपालाल पारीक, रामगोपाल थानवी, भरतराम तिवारी, रामगोपाल चोटिया, नवीनकुमार सिंह, नंदलाल सिंघानिया, हिंगलाजदान चारण रत्नू, डॉ. बिन्देश्वरी प्रसाद सिंह, श्रीराम सोनी, डॉ. कमल कुमार, अमित शर्मा, अनुपम शर्मा, ओमप्रकाश बांगड़, जीवन सिंह, मोहनलाल पारीक, रतन जैन, सत्यनारायण तिवाड़ी, सुरेन्द्र अग्रवाल, विशन सिखवाल, नरेन्द्र अग्रवाल, आनन्द पाण्डेय, विजय ओझा, रंजना त्रिपाठी, जयंती सरकार एवं गायत्री बजाज प्रभृति कोलकाता एवं हावड़ा के सामाजिक एवं साहित्यिक क्षेत्र के अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। अरुण प्रकाश मल्लावत, सत्यप्रकाश राय, मनोज काकड़ा, रामचन्द्र अग्रवाल, भागीरथ सारस्वत, मनीष मंत्री, अरुण सिंह, श्रीमोहन तिवारी प्रभृति सक्रिय थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दिल्ली हिंसा में 200 उपद्रवी हिरासत में, 300 जवान हुए घायल

नई दिल्ली : दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा को लेकर अब दिल्ली पुलिस का एक्शन शुरू हो गया है। पुलिस ने दो आगे पढ़ें »

कपड़े के ऊपर से ब्रेस्ट छूना यौन अपराध नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने …

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाई कोर्ट के उस फैसले पर रोक लगा दी थी जिसमें उसने एक नाबालिग लड़की के वक्षस्थल (ब्रेस्ट) को आगे पढ़ें »

ऊपर