यास के कारण आसमान छू रहे हैं सब्जियों के दाम

कोलकाता : राज्य के साथ आसपास के राज्यों में यास चक्रवाती तूफान का काफी प्रभाव पड़ा है। हर जगह काफी प्रभाव तूफान का पड़ा है। वहीं सब्जियां भी इसके प्रभाव से नहीं बच सकी हैं। हालांकि आशंका तो पहले से ही जतायी गयी थी। वहीं थोक हो या फिर बाजार सभी जगहों पर सब्जियों की कीमतों में 15 से 25 रुपये तक का अचानक इजाफा हो गया है। इस कारण क्रेता व विक्रेता दोनों के माथे पर सिकन आ गयी है। देखा जाये तो खीरा, पटल से लेकर आलू के दाम रातोंरात अासमान छूने लग गये। व्यवसाइयों की मानें तो यास के बाद से ही अचानक सब्जी की कमी हो गयी और दामों में इजाफा हो गया।
सब्जी के बढ़े हुए दामों के ये हैं कारण
दरअसल स​ब्जियों के दामों में हुए इजाफे का मुख्य कारण कई है। इनमें से प्रमुख है यास के बाद हुई तेज बारिश। गत बुधवार को यास के आने के बाद कोलकाता, हावड़ा समेत हुगली में जोरदार बारिश हुई और जगह-जगह जलजमाव हो गया। ऐसे में स्टोर किये गये सब्जियों में भी पानी भर गया। यहां तक कि सब्जी की फसलों को भी काफी नुकसान पहुंचा है। पूर्व मिदनापुर व दक्षिण 24 परगना के अधिकांश इलाके में कृषि नष्ट हो गयी है। इससे बैगन, झींगा, भिंडी, हरि मिर्च, खीरा, कुम्हड़ा भी भारी मात्रा में नष्ट हो गयी। ऐसे में सब्जी के दाम बढ़ गये और आम लोगों की जेब कटने लगी। इसके अलावा लोकल ट्रेनें बंद हैं और साथ ही डीजल के दाम भी आसमान छू रहे हैं।

15 से 25 रुपये तक बढ़ गयी हैं कीमतें
ये हैं दाम
पहले और अब
पटल 16-20
हरी मिर्च 80-200
बैगन 40-60
चिचिंगा 30-40
भिंडी 20-40
झींगा 30-40

इन इलाकों से आनेवाली सब्जियां हुई महंगी
इधर कृषकों का कहना है कि दक्षिण 24 परगना के काकद्वीप, नामखाना, संदेशखाली, पाथेरप्रतिमा, कुलतली में बैगन, झींगा, भिंडी, हरि मिर्च, खीरा, कुम्हड़ा की खेती होती है। ये इलाके बारिश के बाद अब तक जलमग्न हैं। इस कारण सब्जियां सड़ रही हैं। वहीं पूर्व मिदनापुर में करैला, खीरा, चिचिंगा, हरी मिर्च की खेती होती है, जिन्हें नुकसान पहुंचा है। बाजार में बैगन, पटल, झींगा व भिंडी के दाम 30 से 40 रुपये होते हैं लेकिन अभी इनके दाम 50 से 60 रुपये हो गये हैं। हरी मिर्च जहां 80 रुपये किलो थी वहीं अब 200 रुपये किलो हो गयी है।
व्यवसायियों का परिवहन खर्च बढ़ा
व्यवसाइयों का कहना है कि पहले यह सब्जियां लोकल ट्रेन के माध्यम से मात्र 1 हजार रुपये में आती थीं, अब गाड़ी से लाने में 3 हजार रुपये लग जाते हैं। इस कारण भी दाम बढ़ रहे हैं। इधर वेस्ट बंगाल वेंडर एसोसियेशन के अध्यक्ष कमल दे का कहना है कि दोनों जिलों में व्यापक क्षति हुई है। वहीं नदिया व उत्तर 24 परगना से आनेवाली सब्जियाें के भरोसे ही बाजार चल रहे है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक सेक्टर-5 स्टेशन का भी निजीकरण

अब बंधन बैंक का लगा स्टेशन पर नाम कोलकाताः मेट्रो रेलवे की ओर से कई स्टेशनों को निजीकरण किए जाने की पहल पहले ही गई है। आगे पढ़ें »

महिला को डायन करार देकर पीटने का आरोप

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले के जंगलमहल इलाके में एक बार फिर से एक महिला को डायन करार देते हुए उसे बुरी तरह से पीटे जाने आगे पढ़ें »

ऊपर