राज्य में वैक्सीन की किल्लत नहीं हो रही दूर

  • इंडिविजुअल स्लॉट अब भी मुश्किल
  • सरकार वैक्सीनेशन ड्राइव और करेगी तेज

संदीप त्रिपाठी
कोलकाताः एक तरफ कोरोना वायरस महामारी में बड़ा हथियार वैक्सीनेशन को ही माना जा रहा है, वहीं देखा जा रहा है कि वैक्सीन की किल्लत दूर होने का नाम नहीं ले रही है। ऐसे में अब भी वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों को एड़ी चोटी का जोर लगवाना पड़ रहा है। दरअसल जब से राज्य सरकार ने निजी अस्पताल व केंद्रों को सीधे वैक्सीन खरीदने का दिशा-निर्देश जारी किया था, उसके बाद से ही वैक्सीन को लेकर किल्लत नजर आ रही है। हालांकि कार्पोरेट व हाउसिंग सोसाइटी के लिए निजी अस्पताल वैक्सीनेशन चलवा रहे हैं। ऐसे में इंडिविजुअल तौर पर लोगों को वैक्सीन के स्लॉट मिलना मुश्किल साबित हो रहा है।
18 से अधिक उम्र के लोगों के वैक्सीन की राह काफी मुश्किल
देखा जा रहा है वैक्सीन तो आ रही है, हालांकि इसकी किल्लत दूर नहीं हो रही है। सबसे अधिक परेशानी युवा वर्ग को हो रही है। दरअसल 18 से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन स्लॉट ही नहीं मिल पा रहा है। वैक्सीन के लिए सेंटर खुलते ही बुक हो जा रहा है। ऐसे में राज्य में वैक्सीन की किल्लत बनी हुई है। रोजाना यदि किसी अस्पताल या सेंटर की ओर से वैक्सीन लगाई भी जा रही है, तो यह मुश्किल से 100 युवाओं को ही टीके लग रहे हैं। इसके अलावा 45 प्लस के लिए भी वैक्सीन कम ही मिल पा रही है। यही वजह है कि अब भी स्वास्थ्य विभाग लगातार वैक्सीनेशन के लिए विभिन्न अस्पतालों में टीकाकरण के लिए ड्राइव चला रहा है।
सीके बिड़ला हॉस्पिटल ने शुरू किया वैक्सीनेशन ड्रा‌इव
सीके बिड़ला हॉस्पिटल्स के सीओओ डॉ. सिमरदीप गिल ने कहा कि हमने भी वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू किया है। लोग इसके लिए स्लॉट बुक कर सकते हैं। इसके अलावा हम कार्पोरेट तौर पर लोगों के कैंपस में वैक्सीनेशन ड्राइव चलाएंगे।
वैक्सीनेशन के आंकड़ों पर नजर
राज्य में अब तक लगी वैक्सीन- 1,49,45,786
कोलकाता में लगी वैक्सीन-19,12,869

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुबह उठकर दोनों हाथों की ‘हथेलियों’ को देखने से भी बदलती है किस्मत

कोलकाता : सुबह उठकर हाथों की हथेलियों को देखना बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसा प्रतिदिन करने से जीवन में मान सम्मान प्राप्त होता आगे पढ़ें »

आज से भक्तों के लिये खुल जायेंगे दक्षिणेश्वर मंदिर के कपाट

कोलकाता : कोलकाता के कालीघाट व मायापुर मंदिर के खुलने के बाद कोरोना के घटते ग्राफ को देखते हुए गुरुवार यानी आज से दक्षिणेश्वर मंदिर आगे पढ़ें »

ऊपर