और आप देखते ही कहेंगे वाऊ: लोकल ट्रेनों में कलाकृतियां से अनोखे संदेश

कोच में दिख रही है संदेशों से भरी कलाकृतियां
यात्रियों ने कहा – रेलवे की यह अच्छी पहल

सबिता राय
कोलकाता : एक ओर जहां बिहार के मधुबनी रेलवे स्टेशन की मिथिला पेंटिग पूरी दूनिया में सुर्खियों में है। बंगाल में भी लोकल ट्रेनों में मनमोहक कलाकृतियां दिख रही हैं। पूर्व रेलवे की ओर से लोकल ट्रेनों के कोच में कलाकृतियों के माध्यम से यात्रियों को अनोखे संदेश दिए जा रहे हैं। यात्रियों को जागरूक करने के साथ ही साथ कला व संस्कृति से भी रुबरू करवाया जा रहा है। महिला कोच में बनायी गयी पेंटिंग यात्रियों को खूब भा रही है। ऐसे कोच में यात्रा करने वाले भी खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।
महिला सुरक्षा हमारी प्राथमिकता
पूर्व रेलवे के महाप्रबंधक (जीएम) मनोज जोशी ने कहा कि महिला यात्रियों की सुरक्षा को हमेशा ही प्राथमिकता दी गयी है। अब लोकल ट्रेन के महिला डिब्बा में इस तरह की कलाकृतियों से और ज्यादा यात्रियों में जागरूकता बढ़ेगी।
यादों से भरी यात्राएं
पूर्व रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कमलदेव दास ने कहा कि लोकल ट्रेनों में शानदार कलाकृतियां से यात्रियों को खास अनुभव की सौगात दिलाना है। यात्रा लंबी नहीं ऐसी हो कि याद रहे। हमें उम्मीद है कि पूर्व रेलवे की यह कोशिश को लोग खूब पसंद कर रहे हैं।
एक नजर इस पर
पूर्व रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लॉकडाउन से पहले लोकल ट्रेनों में संदेश भरे पेंटिग्स किये गये, लॉकडाउन के दौरान काम में और तेजी आयी। अधिकारी ने कहा सियालदह लाइन में अभी तक करीब 17 से 18 रेक तथा हावड़ा लाइन में करीब 30 ट्रेनों में इस तरह की पेंटिग्स की गयी है। आगे भी कई ट्रेनों में करने की योजना है।
यात्रियों को पसंद आ रही है यह पहल
सियालदह से हालीशहर में रोजाना सफर करने वाली एक महिला यात्री का कहना है कि यह रेलवे की अच्छी पहल है लेकिन केवल महिला कोच में नहीं बल्कि जनरल में भी इस तरह के जागरूकता भरे संदेश होने चाहिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बागी नेताओं की सभा में कम होती जा रही है भीड़ : ज्योतिप्रिय

बारासात : भाजपा के एक घातक पार्टी है। तृणमूल के जो नेता वहां गये हैं उनकी सभाओं में अब लोगों की कमी हो रही है। आगे पढ़ें »

बेटे की हत्या कर व्यवसायी ने लगा ली फांसी

बारासात : बारासात अंचल के हाबरा थाना अंतर्गत श्रीनगर इलाके में 7 साल के बेटे की हत्या कर पिता के फांसी लगा लेने की घटना आगे पढ़ें »

ऊपर