बंगालः बीमार बेटे की हालत से दुखी पिता ने उसकी हत्या के बाद की आत्महत्या

आर्थिक रूप से जर्जर एक पिता मानसिक रूप से बीमार बेटे की पीड़ा नहीं देख पा रहा था
बिरयानी खिला कर पहले घर के सदस्यों को गहरी नींद सुलायी फिर बेटे का गला घोंट स्वयं फंदे से लटका
सिलीगुड़ी : मानसिक रूप से बीमार बेटे की असह्य शारीरिक और मानसिक तकलीफ को देखकर दुखी एक पिता ने उसकी हत्या के बाद स्वयं आत्महत्या कर ली। सिलीगुड़ी थानांतर्गत वार्ड 24 के तरुण तीर्थ क्लब के पास भारत नगर में शुक्रवार को इस घटना के बाद पूरे इलाके में दहशत का माहौल व्याप्त हो गया। पिछले कई दिनों से योजना बना रहे पिता पार्थ राय(52)ने नींद की दवा मिली बिरयानी खिलाकर परिवार के सभी 3 सदस्यों को अचेत कर दिया और इसी दाैरान बेटे सुभाष राय(22) का गला घाेंट कर हत्या कर दी। इसके तुरंत बाद ही उन्होंने स्वयं गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। शुक्रवार सुबह इस घटना की जानकारी होते ही लोगों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। सिलीगुड़ी थाने के अधिकारियों ने पार्थ राय(52) और सुभाष राय(22)के शवों को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए उत्तर बंगाल मे‌डिकल कालेज सह अस्पताल भेज दिया।
बताया जाता है कि पिता पार्थ राय(52) गुरुवार रात योजनाबद्ध तरीके से घर के सभी 4 सदस्यों के लिए बिरयानी लेकर आये थे। उसमें तीन सदस्यों को उन्होंने नींद की दवा मिली बिरयानी खिलायी, जिसे खाने के कुछ देर बाद ही परिवार के सभी सदस्य गहरी नींद में सो गये थे। उनका छोटा बेटा मां के साथ सोया था जबकि बड़ा बेटा पिता के कमरे में ही सोया था। आरोप है कि गहरी नींद में सो रहे बेटे सुभाष राय(22) की गला घोंट कर हत्या के बाद पिता पार्थ राय ने स्वयं फंदे से लटक कर आत्महत्या कर ली। परिवार के अन्य सदस्य उस वक्त इतनी गहरी नींद में थे कि उन्हें देर रात घटी घटना की भनक तक नहीं लगी। सुबह इस परिवार के किसी व्यक्ति को नहीं देखकर आसपास के लोगों ने ही जब घर में प्रवेश किया तो वहां पिता पुत्र को इस हालत में देखकर परिवार के अन्य सदस्यों की तलाश की। वहीं सभी सदस्य उस वक्त भी गहरी नींद की हालत में पाये गये।
स्‍थानीय नागरिकों ने बताया कि पार्थ राय के परिवार के उनकी पत्नी के अलावा दो बेटे हैं। सौभिक उनका बड़ा बेटा था। वह बचपन से ही मानसिक बीमारी से जूझ रहा था। बताया जाता है कि उसकी पारिवारिक हालत भी अच्छी नहीं होने के बावजूद परिजन उसे इलाज के लिए कोलकाता ले गये थे। वहीं आर्थिक परेशानी फिर इलाज में आड़े आयी और उसका बेहतर इलाज संभव नहीं हो पाया था।
इन घटनाओं को लेकर परिवार में हमेशा कलह बनी रहती थी। सिलीगुड़ी के विधायक डॉ. शंकर घोष ने बताया कि बेटे के इलाज को लेकर परिवार के लोग परेशान रहते थे। इस परिवार की कई बार मदद की गयी थी लेकिन ऐसी घटना घट जायेगी इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।
सिलीगुड़ी मेट्रोपोलिटन पुलिस के जोन-1 के एससीपी शुभेन्दु कुमार ने कहा कि फिलहाल रहस्यमय मौत का मामला दर्ज कर पुलिस छानबीन कर रही है। उन्होंने बताया कि इस मामले में अभी भी कुछ कहना मुश्किल है। पुलिस घटना की जांच कर रही हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

गुरुवार को कीजिए ये उपाय, भगवान विष्णु के साथ देवी लक्ष्मी भी होंगी प्रसन्न

कोलकाता :  हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सप्ताह के सभी सातों दिन किसी ना किसी भगवान, देवी-देवता से संबंधित माने गए हैं। इसी कड़ी में आगे पढ़ें »

ऊपर