वज्रपात से मारे गए लोगों के घरों में पहुंचे दो मंत्री

– किया परिवारों को आर्थिक मदद
– वज्रपात को लेना होगा हम सभी को गंभीरता से : ज्योतिप्रिय मल्लिक
बशीरहाट : राज्य में नया आतंक वज्रपात से होने वाली मृत्यु का भी हो गया है। गत दिनों 33 लोगों की जान वज्रपात से चली गई और यह राज्य के लिए भी चिंता का विषय बन गया है । राज्य सरकार ने पहले ही वज्रपात से मारे गए लोगों के परिजनों को आर्थिक मदद देने की घोषणा की है। इस घोषणा के तहत ही राज्य भर में मंत्री व विधायक अपने-अपने क्षेत्र में वज्रपात से मारे गए लोगों के परिवारों के पास जाकर खड़े हो रहे हैं। देखा गया कि उत्तर 24 परगना जिले के स्वरूपनगर में ही 5 लोगों की इस वजह से मौत हुई थी, अतः बुधवार को उन सभी मृतकों के परिजनों के पास दो मंत्री पहुंचे। बशीरहाट ब्लाक 2 के माटीया थाना अंतर्गत चेता ग्राम पंचायत के सादिक नगर ग्राम में 50 साल के रियाजुद्दीन मंडल की मौत रविवार को वज्रपात से हुई थी और वही अपने परिवार को देखने वाला एकमात्र कमाऊ व्यक्ति था। बुधवार को राज्य के वन मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक, शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु व बशीरहाट के विधायक एटीएम अब्दुल्ला ने मृतक के परिवार के साथ उनका दुख बांटा और उन्हें 2 लाख रुपये का चेक प्रदान किया। इसके साथ ही दोनों मंत्री और तृणमूल के कर्मी अन्य मृतक के भी परिवारों के पास पहुंचे और उनकी आर्थिक मदद की। मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने कहा कि कोलकाता नगर निगम की ओर से वज्रपात को नियंत्रित करने के लिए मशीनों को लगाने का काम किया जा रहा है। उस तर्ज पर जिले भर में काम हो इस पर हम बातचीत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वज्रपात अभी एक बड़ी समस्या के रूप में सामने आ रहा है। लोगों को सतर्क होना होगा। जब भी भारी बारिश व बिजली चमकने की घटनाएं हों लोगों को पहले ही सुरक्षित स्थानों पर पहुंचना होगा क्योंकि जान है तो जहान है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुबह उठकर दोनों हाथों की ‘हथेलियों’ को देखने से भी बदलती है किस्मत

कोलकाता : सुबह उठकर हाथों की हथेलियों को देखना बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसा प्रतिदिन करने से जीवन में मान सम्मान प्राप्त होता आगे पढ़ें »

आज से भक्तों के लिये खुल जायेंगे दक्षिणेश्वर मंदिर के कपाट

कोलकाता : कोलकाता के कालीघाट व मायापुर मंदिर के खुलने के बाद कोरोना के घटते ग्राफ को देखते हुए गुरुवार यानी आज से दक्षिणेश्वर मंदिर आगे पढ़ें »

ऊपर