निगम चुनाव में तृणमूल का जलवा, लेकिन भाजपा के इन नेताओं ने लहराया परचम

कोलकाताः कोलकाता नगर निगम चुनाव में कुल 144 वार्डों पर वोटों की गिनती जारी है। यहां तृणमूल कांग्रेस 134 सीटों पर बढ़त के साथ कई सीटों पर जीत भी दर्ज कर चुकी है जबकि भाजपा तीन सीटों पर सिमट गई है। पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने कोलकाता नगर निगम पर लगातार तीसरी बार कब्जा जमाने जा रही है। इन चुनावों में एक ओर तृणमूल कांग्रेस बंपर जीत की ओर जा रही है तो भाजपा के कुछ नेताओं ने भी परचम लहराया है। इनमें भाजपा से मीना देवी पुरोहित, सजल घोष और विजय ओझा शामिल हैं।
मीना देवी पुरोहित (डबल हैट्रिक)
कोलकाता नगर निगम चुनाव में टीएमसी की सुनामी के बीच छठी बार पार्षद का चुनाव जीतने वाली बीजेपी की मीना देवी पुरोहित बेहद खुश हैं और अपनी जीत के पीछे साल के 365 दिन जनता के बीच बिताने और उनके काम में लगे रहने को बताती हैं। मीना देवी पुरोहित पिछले लगभग 25 सालों से बीजेपी से जुड़ी हुई हैं कोलकाता नगर निगम में डिप्टी मेयर भी रह चुकी है जोड़ासांको विधानसभा सीट से 1 बार विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुकी हैं। मीना देवी पुरोहित कोलकाता के 22 नंबर वार्ड से जीती है जो कि बड़ा बाजार इलाके में आता है जहां 70% कारोबारी लोग रहते हैं और भाजपा का गढ़ माना जाता है।
विजय ओझा और सजल घोष
वहीं, 23 नंबर वार्ड भी बड़ाबाजार के अंतर्गत आता है जहां से विजय ओझा चुनाव जीते हैं। इसके अलावा सजल घोष ने भी भाजपा के कमल चिन्ह पर चुनाव जीता है। सजल घोष के पिता भी राजनीति में रह चुके हैं। इनके व्यक्तिगत काम और पहचान को ही इनकी जीत की असल वजह बताया जा रहा है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंग : वरिष्ठ आईएएस अधिकारी नंदिनी चक्रवर्ती को राज्यपाल क़ा प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया गया

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि वरिष्ठ आईएएस अधिकारी नंदिनी चक्रवर्ती को राज्यपाल क़ा प्रिंसिपल सेक्रेटरी बनाया गया। आगे पढ़ें »

ऊपर