बम विस्फोट में तृणमूल कार्यकर्ता की मौत, दो की हालत गंभीर

Bomb Blast

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के नदिया जिले में चापड़ा थानांतर्गत इलाके में बमबाजी की घटना सामने आई है। बमबाजी से हुए हादसे में एक स्‍थानीय तृणमूल कार्यकर्ता के मारे जाने की खबर मिली है। वहीं, दो लोगों को गंभीर चोटें आई हैं। इस हादसे के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कार्यकताओं को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

तृणमूल की सभा से लौटते समय हुआ हादसा

मृतक का नाम रफिक शेख बताया गया है। वह चापड़ा के बेतबेड़िया ग्राम पंचायत इलाके का निवासी था और तृणमूल पार्टी का कार्यकर्ता था। जिन दो लोगों के घायल होने की खबर है उनके नाम शमीम विश्वास और हसन शेख बताए गए हैं। स्थानीय सूत्रों के अनुसार सोमवार सुबह इलाके में तृणमूल की एक सभा आयोजित की गयी थी। इस सभा से लौटते समय तृणमूल कार्यकर्ताओं पर बम से हमला किया गया। हमले में तीन लोग बुरी तरह जख्मी हो गए, ‌जिसमें से एक की अस्पताल में मौत हो गयी और दो लोगों का इलाज जारी है।

प्राथमिकी दर्ज कर पुलिस जांच में जुटी

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बम धमाके की आवाज सुनकर जब स्‍थानीय लोग घटनास्‍थल पर पहुुंचे तो हमलावर वहां से फरार हो चुके थे। इसके बाद पुलिस को इस घटना की सूचना दी गयी। मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों पीड़ितों को अस्पताल पहुंचाया, जहां एक की मौत हो गयी।

पुलिस की ओर से बताया गया कि मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है और पुलिस जांच में जुट गई है। हमलावरों की पहचान के लिए स्थानीय लोगों से पूछताछ चल रही है।

बीजेपी ने आरोपों को किया खारिज

इस हादसे के बाद इलाके में आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। तृणमूल नेताओं ने इस हादसे का आरोप बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लगाते हुए कहा है कि इस घटना को सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया है। वहीं बीजेपी की ओर से इन आरोपों को नकारा जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपना कर्तव्य नहीं निभा रही हैं सीएम – मुकुल

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मुकुल राय ने बंगाल में कैब के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर कहा आगे पढ़ें »

Bengal new Rajypal

मुख्यमंत्री अपने कर्तव्य को निभाएं : राज्यपाल

कोलकाता : राज्यभर में नागरिकता संशोधित कानून (कैब) के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन और हिंसा के बीच ही राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर