अभिषेक की हुंकार : 250 से अधिक सीटें पायेगी तृणमूल

भाजपा बोला जमकर हमला
कहा – चुनाव के समय बाहरी नेताओं को लाकर अशांत करने की कोशिश
भाजपा सत्ता में आने के बाद एसटी – एससी पर अत्याचार बढ़े
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : विधानसभा चुनाव को लेकर बंगाल की राजनीतिक जमीन तप रही है। सभी राजनीतिक पार्टियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। तृणमूल पूरे दम खम के साथ मैदान में उतर चुकी है और तीसरी बार भारी बहुमत के साथ सरकार गठन का दावा पेश कर रही है। गुरुवार को एसएटी एससी सेल की गीतांजलि स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में तृणमूल युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद अभिषेक बनर्जी ने हुंकार भरते हुए कहा कि तृणमूल कांग्रेस 250 से अधिक सीटें पाकर तीसरी बार सत्ता में लौटेगी। उन्होंने कहा कि हम सभी को मिलकर ममता बनर्जी का हाथ मजबूत करना होगा। लक्ष्य 250 से अधिक सीटों का रखना है ता​कि दिल्ली थर थर कांपे। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि जनता इनलोगों के अन्याय को समझ चुकी है। दिल्ली में किसान आंदोलन में क्या हो रहा है इसे सभी देख रहे हैं। बंगाल में भी चुनाव के दौरान बाहरी नेताओं को लाकर अशांत करने की कोशिश चल रही है। अभिषेक ने नाम लिये बिना कहा कि ये नेता दिन में कुछ और रात में कुछ और होते हैं। दिन में दलित के घर में केलापत्ता पर खाते हैं और रात में 5 स्टार के खाने से दोस्ती होती है। ऐसा करके लोगों को विभ्रांत करने की कोशिश कर रहे हैं।
हर वर्ग के लिए ममता सरकार ने किया बेहतरीन काम
राज्य सरकार के विभिन्न योजनाओं का उल्लेख करते हुए अभिषेक बनर्जी ने कहा कि ममता बनर्जी की सरकार ने हर वर्ग के बारे में काम किया है। कन्याश्री से लेकर युवाश्री व अन्य योजनाओं से लोगों को भरपूर सहयोग मिला। दुआरे सरकार के तहत अभी तक 2 करोड़ 70 लाख लोगों ने सरकारी सुविधा के लिए नाम पंजीकरण करवाया। 1 करोड़ से अधिक स्वास्थ साथी कार्ड दिये गये। खाद्य साथी के लिए 80 लाख से अधिक नाम पंजीकरण हुआ। बंगाल एक मात्र ऐसा राज्य है जहां स्वास्थ्य, शिक्षा सहित कई योजनाओं मुफ्त में दी जाती है। हमारी लड़ाई रोटी कपड़ा मकान की होती है मगर एक राजनीतिक पार्टी धर्म के नाम पर राजनी​ति करते हैं।
यहां की पहरेदार ममता बनर्जी हैं, नहीं होगी कोई तकलीफ
सांसद ने आरोप लगाया कि भाजपा के सत्ता में आने के बाद से एसटी एससी पर अत्याचार बढ़े हैं। मगर बंगाल में ऐसा नहीं है। यहां हाथरस जैसी घटनाएं नहीं हुई, क्योंकि यहां की पहरेदार ममता बनर्जी हैं। आपलोगों को कोई तकलीफ नहीं होने देंगी। ऐसे में आप सभी से निवेदन है कि ममता बनर्जी का साथ खड़े रहिये। सरकारी योजनाओं को घर घर पहुंचाइये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

8 को वाममोर्चा कर सकता है उम्मीदवारों की घोषणा

वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच जटिलता लगभग समाप्त कोलकाता : काफी जटिलता के बाद वाम-कांग्रेस-आईएसएफ के बीच चुनावी समझौता अब अपने अंतिम दौर में है। कांग्रेस और आईएसएफ आगे पढ़ें »

आज आ सकती है तृणमूल की प्रार्थी तालिका

ममता की सीट पर सबकी नजरें कोलकाता : राज्य में चुनाव का बिगुल बज चुका है। चुनावी प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। नहीं हुई है आगे पढ़ें »

ऊपर