उत्तर 24 परगना में चली तृणमूल की आंधी, भाजपा के हेवीवेट भी नहीं टिक पाये

33 सीटों में से 27 पर तृणमूल की शानदार जीत
विजेताओं ने कहा -2011 की जीत की याद दिलायी है जनता ने
बैरकपुर\बारासात : उत्तर 24 परगना जिले की 33 सीटों में से 27 सीटों पर तृणमूल की शानदार जीत ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि जिले भर में जनता का भरोसा सिर्फ और सिर्फ तृणमूल पर है। यहां तृणमूल की ऐसी आंधी चली कि यहां भाजपा के दिग्गज भी अपने ही दुर्ग को नहीं बचा पाये और उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा। माना जा रहा था कि बैरकपुर व बनगांव लोकसभा में भाजपा की जीत के बाद इन दोनों लोकसभा क्षेत्रों में भाजपा की संगठन मजबूत हुई थी और यहां कई सीटों पर भाजपा की जीत का दावा किया जा रहा था मगर आश्चर्यजनक नतीजा सामने आया। अर्जुन का अखाड़ा माने जाने वाले बैरकपुर लोकसभा के तहत भाटपाड़ा विधानसभा सीट को छोड़कर किसी और सीट पर भाजपा को जीत नहीं मिली। यहां भाजपा के दिग्गजों को अपने ही दुर्ग में शिकस्त खानी पड़ी है। वहीं बनगांव लोकसभा में भाजपा ने अपनी पकड़ मजबूर रखते हुए यहां 4 सीटों पर जीत हासिल की है। बागदा सीट पर भाजपा उम्मीदवार विश्वजीत दास ने जीत हासिल कर एक बार फिर अपनी पैठ को साबित किया। गायघाटा में ठाकुर परिवार के ही सदस्य व सांसद शांतनु ठाकुर के भाई सुब्रत ठाकुर ने जीत दर्ज कर भाजपा को यहां स्थापित रखा। बशीरहाट अंचल के हिंगलगंज में भाजपा उम्मीदवार निमाई दास ने विरोधियों को हराकर बशीरहाट अंचल में भाजपा के अस्तित्व को कायम किया। दूसरी ओर जिले में संयुक्त मोर्चा ने इस बार अपनी जमीन खो दी और यह साफ हो गया कि यहां अब दो ही पार्टियों में मुकाबला रहेगा। जिले में तृणमूल की इस जीत को लेकर जिला तृणमूल अध्यक्ष ज्योतिप्रिय मल्लिक ने कहा कि बंगाल में सिर्फ ममता की चलेगी यह जनता ने साबित किया है। यहां 4 दिन के लिए घूमने आये और बड़ी-बड़ी बातें करने वालों को जनता ने करारा जवाब दिया है। गद्दारों को कैसे सबक सिखाया जाता है वह जिले की जनता ने ही आज साबित करते हुए गणतंत्र की जीत को स्थापित किया है। इस बार की जीत ने 2011 की याद दिलायी है। पानीहाटी में पांचवीं बार जीत हासिल करने वाले जिला तृणमूल के सचिव निर्मल घोष ने कहा कि तृणमूल सरकार पर जनता का यह भरोसा अविश्वसनीय है। हम जनता के कतृज्ञ हैं और उनके लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। तृणमूल नेताओं ने कहा कि कोरोना को देखते हुए कर्मियों से किसी तरह का जुलूस व जश्न मनाने को मना किया गया है मगर उनके उत्साह को हम सोशल मीडिया और उनके अन्य तरीकों से दिये जा रहे संदेशों से देख पा रहे हैं। यहां बता दें कि प्रशासन की ओर से मतगणना केंद्रों के बाहर मनाही के बाद भी जगह-जगह तृणमूल कर्मियों को हरे रंग का गुलाल खेलते, ढाेल बजाकर नाचते-गाते और मिठाइया बांटकर जश्न मनाते हुए देखा गया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऑक्सीजन कालाबाजारी मामला: नवनीत कालरा को तीन दिनों की पुलिस रिमांड में भेजा गया

नई दिल्ली: दिल्ली खान मार्केट में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की कालाबाजारी के आरोपी नवनीत कालरा को दिल्ली की साकेत कोर्ट ने तीन दिन की पुलिस रिमांड में आगे पढ़ें »

ममता बनर्जी के 2 मंत्री सहित 4 नेताओं को मिली जमानत

- सीबीआई की हिरासत की अर्जी खारिज कोलकाताः नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले में गिरफ्तार मंत्री सुब्रत मुखर्जी, मंत्री फिरहाद हकीम, पूर्व मे मेयर  शोभन चटर्जी और आगे पढ़ें »

ऊपर