तृणमूल ने केंद्रीय बल की भूमिका पर खड़े किए सवाल

भाजपा अपना रही कई हथकंडे : यशवंत सिन्हा
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : अर्द्धसैनिक बलों की भूमिका को लेकर एक बार फिर से तृणमूल कांग्रेस ने सवाल खड़े किए हैं। तृणमूल का प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को चुनाव आयोग पहुंचा। प्रतिनिधिमंडल में मंत्री सुब्रत मुखर्जी, तृणमूल नेता यशवंत सिन्हा, सांसद दोला सेन,नदीमुल हक,सुखेंदु शेखर राय और नयना बंद्योपाध्याय शामिल थे।सुब्रत ने कहा कि टीएमसी की ओर से चुनाव प्रक्रिया को लेकर करीब 300 शिकायतें दर्ज कराई गई हैं, जिसमें बीते कल नंदीग्राम की बोयाल की भी घटना शामिल है। हालांकि शिकायतों पर ठोस कार्रवाई नहीं हो रही है।उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के निर्देश पर केंद्रीय बल के जवान बीजेपी को लाभ पहुंचा रहे हैं। चुनाव को प्रभावित करने के लिए केंद्रीय बलों के खिलाफ कई शिकायतें हमें मिली हैं। हमने पहले कभी गृह मंत्री के निर्देश पर इस तरह का वोट नहीं देखा। यही नहीं, कुछ बूथों में ईवीएम की खराबी की खबरों पर भी टीएमसी ने चिंता जताई।सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि हमने करीब 300 शिकायतें दर्ज करवाई हैं। यह पहली बार है कि गृह मंत्री के निर्देश पर केंद्रीय बल बीजेपी को सहयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि हम मांग करते हैं कि केंद्रीय बल के जवान जिनके खिलाफ आरोप लगाए गए हैं, उन्हें आगे मतदान के लिए तैनात नहीं किया जाए।सुब्रत मुखर्जी ने मांग की है कि आयोग को अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करना चाहिए। मुझे उम्मीद है कि चुनाव आयोग अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी निभाएगा, क्योंकि, राज्य में एक महीने में कई और महत्वपूर्ण चुनाव बाकी हैं।पूर्व केंद्रीय मंत्री व हाल ही में तृणमूल में शामिल हुए तृणमूल नेता यशवंत सिन्हा ने कहा कि भाजपा अक्सर ही चुनाव में कई हथकंडे अपनाती है । बंगाल के विधानसभा चुनाव में भी देखा जा रहा है कि अर्द्धसैनिक बल के माध्यम से वह चुनावी हथकंडे अपनाने की कोशिश कर रही है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह स्वयं कई सीटों को जीतने के दावे कर रहे हैं। हालांकि तृणमूल पूरी तरह से जीत के प्रति आश्वस्त है। तृणमूल फिर से सरकार बनाएगी। हमने चुनाव आयोग से मिलकर के आने वाले चरणों में सभी शिकायतों पर ध्यान देने की अपील की है। साथ ही निष्पक्ष व शांतिपूर्ण चुनाव के लिए ठोस पहल करने की मांग की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोविड के बढ़ते मामलों के बीच आयोग ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

हो सकते हैं कुछ कड़े फैसले कोलकाताः देश में कोरोना वायरस महामारी का कहर जारी है। इस बीच बंगाल में भी रोजाना रिकॉर्ड मामले दर्ज किए आगे पढ़ें »

आईकोर मामले में ईडी ने 22 को शिक्षा मंत्री को बुलाया

करीबी को-ऑर्डिनेटर भी बुलाये गये कोलकाता : इंफोर्समेंट डायरेक्टोरेट की टीम ने आईकोर मामले में शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी को 22 अप्रैल को सीजीओ स्थित अपने आगे पढ़ें »

ऊपर