केएमसी चुनाव के लिए तृणमूल तैयार कर रही विकास की रणनीति

टिकट वितरण के लिए शुरू हुआ मंथन
6 सालों का रिपोर्ट कार्ड देखकर मिलेगा टिकट
‘एक नेता एक पद’ नीति के तहत उम्मीदवारों का होगा चयन
सोनू ओझा 
कोलकाता : 6 साल के लंबे अंतराल के बाद संभवत: अगले महीने कोलकाता नगर निगम के चुनाव होने जा रहे हैं। ऐसे में महानगर में सियासी सरगर्मियां और तेज हो गयी हैं। विधानसभा चुनाव के नतीजों का असर इस बार के निगम चुनाव पर पड़ने की पूरी संभावना है। विधानसभा के परिणाम को देखते हुए ही तृणमूल ने उम्मीदवारों के नामों को लेकर मंथन शुरू किया है। दूसरी अहम बात उम्मीदवारों के चयन में होगी, उनका पिछले 6 सालों का प्रदर्शन जो पार्षदों ने अपने वार्ड में किया है। पार्टी के वरिष्ठ नेता की माने तो ​6 साल के विकास कार्य को देखते हुए जो रिपोर्ट कार्ड बना है वह टिकट की तालिका तैयार करने की मजबूत कड़ी होगी।
जिनसे जनता खुश उन्हें पार्टी देगी मौका !
पार्टी सूत्रों की माने तो पार्टी उन पार्षदों को मौका देगी जिनके काम से जनता खुश है। पार्टी की नीति के अनुसार तृणमूल की प्राथमिकता आम जनता का हित है यानी जो जनता के साथ खड़ा रहा है उसे एक बार फिर एंट्री मिलने के आसार अधिक हैं। दूसरी तरफ जिसने अपने फायदे के लिए पार्टी के टिकट पर जीत दर्ज की थी उन्हें बाहर का रास्ता दिखाने में पार्टी इस बार तनिक देर नहीं करने वाली है।
विधायकों को मिलेगा मौका
कोलकाता के नगर निगम चुनाव में विधायकों को भी मौका मिलता आया है। इस बार भी मौका मिलने के आसार हैं। इस बार अतिन घोष, देवाशिष कुमार और देवव्रत मजुमदार ये तीन विधायक हैं जो कोलकाता नगर निगम में मेयर परिषद के सदस्य भी रहे थे। तीनों का ही प्रदर्शन पार्षद के तौर पर बेहतर माना जाता है। इसी तरह बाकी विधायकों में भी कुछ ऐसे विधायक हैं जो अपने इलाके में जनप्रिय माने जाते हैं जिन्हें पार्टी फायदे को देखते हुए निगम चुनाव में उतार सकती है।
एक नेता एक पद’ को ध्यान में रखते हुए होगा चयन
तृणमूल के एक नेता की मानें तो पार्टी की सबसे महत्वपूर्ण नीति ‘एक नेता एक पद’ को इस चुनाव में भी तवज्जो दिया जाएगा। दरअसल कोलकाता नगर निगम के मौजूदा बाेर्ड में कुछ ऐसे नेता भी हैं जो दो पद पर हैं। मसलन मेयर रह चुके मंत्री फिरहाद हकीम, मेयर परिषद के सदस्य रह चुके अतिन घोष, देवाशिष कुमार और देवव्रत मजुमदार जो विधायक हैं लेकिन अब तक उन्हें कोई और जिम्मेदारी नहीं दी गयी है।
2015 में कोलकाता नगर निगम में सीटों की स्थिति
निगम में कुल सीटें 144
तृणमूल 114
भाजपा 7
वाममोर्चा 15
कांग्रेस 5
अन्य 3

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

रूपा के बगावती तेवर

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता नगर निगम चुनाव का बिगुल बज चुका है। ऐसे में चुनाव की रणनीति तय करने के लिए राजनीतिक पार्टियों के बीच आगे पढ़ें »

ऊपर